DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेरोजगारी भत्ता के लिये रोजगार कार्यालयों पर मारामारी

उत्तर प्रदेश में स्पष्ट बहुमत के साथ सत्तारूढ़ होने जा रही समाजवादी पार्टी (सपा) के बेरोजगारों को एक हजार रुपए प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने के वादे के मद्देनजर समूचे उत्तर प्रदेश के रोजगार कार्यालयों पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बेरोजगारी भत्ता लेने के लिये प्रदेश के विभिन्न जिलों के रोजगार कार्यालयों पर रोजाना दावेदारों का हुजूम लग रहा है। यहां तक कि कार्यालय खुलने से पहले ही उसकी खिड़की के पास लोगों की लम्बी-लम्बी कतारें देखी जा सकती हैं।

सूत्रों के मुताबिक, पुलिस को मंगलवार को बहराइच जिले के अलावा बुंदेलखण्ड तथा मध्य उत्तर प्रदेश के अनेक जनपदों में रोजगार कार्यालयों पर लगी भीड़ को नियंत्रित करने के लिये बल प्रयोग करना पड़ा। सुल्तानपुर से प्राप्त खबर के मुताबिक, होली की छुट्टी के बाद कल रोजगार कार्यालय पर साढ़े चार हजार से ज्यादा पंजीयन हुए।

कानपुर में बेरोजगारी भत्ते के तलबगार लोगों ने रोजगार कार्यालय पर जमकर उत्पात मचाया जिसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। हालांकि उसके बाद भी कार्यालय परिसर में दिन भर अव्यवस्था का माहौल रहा।

गौरतलब है कि सपा ने विधानसभा चुनाव के अपने घोषणापत्र में 35 साल से ज्यादा उम्र के बेरोजगार लोगों को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था। इस बीच, भाजपा के प्रवक्ता विजय पाठक ने आरोप लगाया कि जिस तरह बेरोजगारी भत्ता पाने की आस में रोजगार कार्यालयों में जुट रहे युवाओं पर लाठीचार्ज हो रहा है, वह अत्यन्त निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि सपा ने 35 साल से ज्यादा उम्र के बेरोजगार लोगों को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है, लेकिन उससे कम आयु के लोग भी रजिस्ट्रेशन कराने की होड़ में हैं। सपा को अपने इस वादे को स्पष्ट करते हुए उसका प्रचार करना चाहिये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेरोजगारी भत्ता के लिये रोजगार कार्यालयों पर मारामारी