DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओलंपिक में चलेगा सोशल मीडिया का जादू

पिछले साल अरब जगत की जनक्रांति में एक नई इबारत लिखने वाला सोशल मीडिया अब इस साल हो रहे लंदन ओलंपिक में अपना जादू बिखेरेगा। सोशल मीडिया की लगातार बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ ने सोशल मीडिया से जुड़े एक हब www.hub.olympic.org  को लंदन में गुरुवार को लॉन्च किया।

इस ऑनलाइन हब की मदद से ओलंपिक में खेल रहे खिलाड़ी और उनके फैन्स के बीच सोशल वेबसाइट की मदद से सीधा संवाद हो सकेगा। ओलंपिक संघ के मुताबिक ओलंपिक ऑनलाइन हब में खिलाड़ियों द्वारा किए गए कमेंट या प्रतिक्रिया संबंधी सामग्री सीधे उनके सोशल नेटवर्किंग साइट से उपलब्ध होंगे। सोशल मीडिया पहली बार इस ओलंपिक में खिलाड़ियों और उनके फैन्स के बीच की दूरी को बहुत कम करने में मददगार साबित होगा।

ओलंपिक में कवरेज
सोशल मीडिया
एक ऐसा प्लेटफॉर्म जहां खिलाड़ी और फैन्स हो सकेंगे एक दूसरे से रू-ब-रू।

इंटरनेट
पहली बार 1996 में ओलंपिक खेल की जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध। इसमें फोटो, परिणाम और टिकटों की बिक्री की जानकारी।

टेलीविजन

1964 - टोक्यो ओलंपिक का पहली बार लाइव सेटेलाइट ब्रॉडकास्ट । कुल 40 देशों में इसका प्रसारण।

रेडियो

1936- बर्लिन खेल को रेडियो का जबरदस्त कवरेज मिला। 28 भाषाओं में कुल 2500 ब्रॉडकास्ट।

प्रिंट

1896 में माध्यम सिर्फ अखबार

ओलंपिक में टीवी दर्शक
वर्ष             दर्शकों की संख्या
2008         4 अरब  30 करोड़
2004          3 अरब 90 करोड़
2000           3 अरब 70 करोड़

ओलंपिक में और सोशल मीडिया का प्रसार

फेसबुक 
2012          84.5 करोड़
 2008         10 करोड़
ट्विटर 
2012         14 करोड़
2008          60 लाख

जाने-माने ओलंपिक खिलाड़ी भी सोशल साइट पर
माइकल फेल्प्स, उसैन बोल्ट, येलेना इसिनबाइवा, पाओ गासोल, रोजर फेडरर, अभिनव बिंद्रा, कृष्णा पुनिया, गगन नारंग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ओलंपिक में चलेगा सोशल मीडिया का जादू