DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी उधारी का लक्ष्य पूरा करना एक चुनौती: RBI

रिजर्व बैंक ने कहा है कि अगले वित्त वर्ष के लिए सरकार की बढ़ी हुई उधारी को संभालने का आदेश चुनौतीपूर्ण है, लेकिन वह इसे पूरा करने का भरसक प्रयास करेगा।

आरबीआई में सरकार के उधारी कार्यक्रम का प्रभार संभाल रहे डिप्टी गवर्नर एचआर खान ने कहा कि वृहद उधारी कार्यक्रम को संभालना चुनौतीपूर्ण होने जा रहा है, लेकिन निश्चित तौर पर हम यह देखेंगे कि सर्वोत्तम ढंग से कैसे हम इसे संभाल सकते हैं।

खान के मुताबिक, अगले वित्त वर्ष में सरकार के सकल उधारी कार्यक्रम में 60,000 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी होगी और यह 5.69 लाख करोड़ रुपये रहेगा, जबकि शुद्ध बाजार उधारी 43,000 करोड़ रुपये बढ़कर 4.70 लाख करोड़ रुपये रहेगी।

सरकार चालू वित्त वर्ष में अपने राजकोषीय घाटे और उधारी कार्यक्रम के लक्ष्यों से बुरी तरह से चूक गई। सरकार ने राजकोषीय घाटा 4.6 प्रतिशत पर लाने और 4.17 लाख करोड़ रुपये के उधारी कार्यक्रम का लक्ष्य रखा था।

सरकार द्वारा अतिरिक्त 92,000 करोड़ रुपये जुटाने से राजकोषीय घाटा बढ़कर जीडीपी का 5.9 प्रतिशत पहुंच गया। सरकार द्वारा बजट में और उधारी जुटाने की घोषणा के बाद बांड बाजार मायूस हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकारी उधारी का लक्ष्य पूरा करना एक चुनौती: RBI