DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रूस में थमा प्रचार, पुतिन के भाग्य का फैसला कल

रूस में राष्ट्रपित पद के लिए रविवार को होने वाले बहुप्रतीक्षित चुनावों की पूर्व संध्या पर शनिवार को प्रचार अभियान को पूरी तरह से रोक दिया गया।

रूस के वॉयस ऑफ रशिया रेडियो नेटवर्क की रिपोर्ट में बताया गया है कि चुनाव आयोग ने पहले से दीवारों पर चस्पा की गई प्रचार सामग्री को सिर्फ इसी शर्त पर नहीं हटाने की मंजूरी दी है कि यह मतदान केन्द्रों से पचास मीटर के दायरे में नहीं हो।

रूस में चार वर्षों के बाद राष्ट्रपित पद के लिए हो रहे चुनावों में सत्तारूढ यूनाईटेड रशिया पार्टी की ओर से व्लादिमीर पुतिन, रूसी कम्युनिस्ट पार्टी (केपीआरएफ) की ओर से गेन्नादी झिगानोव, दक्षिणपंथी दल लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से व्लादिमीर झिरीनोवस्की, सोशल डेमोक्रेटिक दल जस्ट रशिया की ओर से सर्गेई मिरोनोव और स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर उद्योगपति मिखाईल प्रोखोरोव मैदान में हैं।

रूसी चुनाव आयोग को 14 मार्च तक चुनाव परिणामों को जारी करना होगा और 17 मार्च तक आधिकारिक प्रकाशन कराना सुनिश्चित्त करना होगा। रूस के नए राष्ट्रपित 07 मार्च को अपना पद ग्रहण करेंगे।

उल्लेखनीय है कि जहां रूस का विपक्ष 04 दिसंबर को संसद के निचले सदन ड्यूमा के लिए हुए चुनावों पर धांधलियों का आरोप लगाकर सड़कों पर लामबंद है वहीं हाल ही में आए कई जनमत सर्वेक्षणों में पुतिन को राष्ट्रपित चुनावों में भारी बहुमत मिलने की संभावना जताई गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रूस में थमा प्रचार, पुतिन के भाग्य का फैसला कल