DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्लास में शैतानी की तो परीक्षा में कटेगा अंक

स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ अब छात्रों के व्यवहार पर भी शिक्षकों की नजर रहेगी। अगर कक्षा में किसी छात्र का व्यवहार अच्छा नहीं हुआ, तो इसका खामियाजा परीक्षाफल में भुगतना पड़ सकता है।

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान परिषद (एनसीईआरटी) ने पढ़ाई के अलावा दूसरी गतिविधियों पर ग्रेड देने की व्यवस्था बनाई है, जबकि अभी तक इन उपलब्धियों पर सिर्फ प्रमाणपत्र दिया जाता था। एनसीईआरटी के सूत्रों ने बताया कि पढ़ाई के अलावा क्लास की दूसरी गतिविधियों पर ग्रेड दिए जाएंगे, जिसमें व्यवहार, सफाई, कला, संगीत के साथ-साथ अन्य गतिविधियों को रखा गया है। इन क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन करने वालों  का ग्रेड बेहतर होगा। एनसीईआरटी ने इसके लिए तीन प्वाइंट का पैमाना बनाया है।

मालूम हो कि एनसीईआरटी इस पैटर्न को देश और विदेश के स्कूलों में लागू करने का सलाह देगा। इसकी पहल शिक्षा के अधिकार कानून को देखते हुए की गई है। उन्होंने बताया कानून में किसी भी छात्र को असफल नहीं करना है। कक्षा आठ तक किसी तरह के बोर्ड की परीक्षाएं नहीं होंगी और न ही छात्रों किसी तरह की सजा देनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्लास में शैतानी की तो परीक्षा में कटेगा अंक