DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेसमेंट को बना दिया था कूड़ेदान

कोलकाता के मेयर ने कहा कि एएमआरआई अस्पताल के बेसमेंट का निर्माण गाड़ियां खड़ी करने के लिए किया गया था, लेकिन यहां पर ज्वलनशील पदार्थ फेंके जाते थे। हालांकि अस्पताल ने इन आरोपों का खंडन किया है।

शुक्रवार तड़के अस्पताल में आग लगने से कम से कम 90 लोगों की मौत हो गई थी। मेयर सोवन चटर्जी ने कहा, ''बेसमेंट ज्वलनशील पदार्थों से भरा था। प्रारंभ में इसे गाड़ियां खड़ी करने की जगह के रूप में चिन्हित किया गया था। लेकिन उन्होंने इस स्थान का प्रयोग कूड़ेदान के तौर पर किया। यह लापरवाही है।''

उन्होंने कहा कि कोलकाता नगर निगम के इंजीनियरों को निरीक्षण करने के लिए कहा गया है। मेयर ने कहा, ''अस्पताल प्रशासन को नियमों का पालन करना चाहिए था। अगर यहां कमी पाई गई तो हम कदम उठाएंगे।''

लेकिन अस्पताल ने दावा किया कि बेसमेंट में कोई भी खतरनाक वस्तु नहीं रखी गई थी। ''अग्निशमन विभाग भी मामले की जांच करेगा और हम सभी निष्कर्ष का इंतजार कर रहे हैं।'' माना जा रहा है कि आग बेसमेंट से फैली और विषैले धुएं के कारण दम घुटने से 90 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में अधिकतर मरीज थे।

उच्च पदस्थ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जुलाई में अस्पताल को बेसमेंट से ज्वलनशील पदार्थों को हटाने के लिए कहा गया था लेकिन उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेसमेंट को बना दिया था कूड़ेदान