DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरियाणा में जाट आंदोलन तेज होने के आसार

हरियाणा सरकार द्वारा हिंसक विरोध प्रदर्शन करने वाले करीब 100 जाट नेताओं को रिहा करने की मांग ठुकराए जाने के बाद प्रदेश में जाट आंदोलन के तेज होने की संभावना है। सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर जाट समुदाय के लोगों ने बीते कुछ दिनों से प्रदेश के कई जिलों में सड़क और रेल यातायात ठप कर रखा है।

जानकारी के अनुसार जाट प्रदर्शनकारियों ने सरकार के गिरफ्तार नेताओं को रिहा करने की अपनी मांग नहीं माने जाने के बाद शुक्रवार को दोबारा से प्रदेश के हिसार जिले से गुजरने वाले राजमार्गों और रेलपटरियों को जाम कर दिया।

जाटों ने अपने नेताओं को रिहा करने हरियाणा सरकार के लिए शुक्रवार दोपहर तक की समय सीमा तय की थी। इससे दो दिन पूर्व  हुई हिंसा में एक युवक की मौत और कई लोग घायल हो गए थे। जाट नेताओं का कहना है कि जब तब उनके नेताओं को रिहा नहीं किया जाता, उस वक्त तक वे प्रशासन और प्रदेश सरकार से किसी तरह की बातचीत नहीं करेंगे।

प्रदर्शनकारियों ने हिसार को दिल्ली, जींद, भिवानी और चण्डीगढ़ से जोड़ने वाले राजमार्गो को पेड़ और बड़े आकार के पत्थर डालकर जाम कर दिया है। इसके अलावा हिसार-दिल्ली रेलपटरी भी अवरूद्ध कर दी गई है।

जाटों ने मारे गए युवक का अंतिम संस्कार करने से भी मना कर दिया है। युवक के शव को कांच के बक्से में बंदकर हिसार से 25 किलोमीटर दूर मैय्यर गांव के नजदीक रेलपटरी पर रखा गया है।

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक रनजीव दलाल के अनुसार जिले में अर्धसैनिक बलों की 24 कम्पनियों पहले से ही तैनात हैं और इसके अतिरिक्त छह कम्पनियां जल्द ही पहुंचने वाली हैं। सेना को भी तैयार रहने को कहा गया है।

उल्लेखनीय है कि जाट समुदाय पिछले कुछ दिनों से अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के तहत सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहा है। जाट समुदाय ने प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर पूर्व में किए गए अपने वादों से मुकरने और आंदोलन को दबाने का प्रयास करने का आरोप लगाया है।

प्रदेश में बीते एक सप्ताह से अधिक समय से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। मंगलवार को पुलिस की गोलीबारी में एक युवक की मौत से गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने बुधवार को दिल्ली जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग और रेलपटरियों को जाम कर दिए था। प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर एक पुलिस स्टेशन को आग के हवाले कर दिया था और हिसार कैंट के नजदीक एक बैंक की शाखा में भी तोडफोड़ की थी।

जानकारी के अनुसार चण्डीगढ़ से करीब 300 किलोमीटर दूर रामायेन और मैहर गांवों के नजदीक प्रदर्शनकारियों से रेलपटरियां खाली कराने के प्रयास में मंगलवार को 20 वर्षीय संदीप नाम के युवक की मौत हो गई थी।

मंगलवार को हुई पुलिस कार्रवाई में करीब 25 प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे। इनमें से गम्भीर रूप से घायल हुए 10 लोगों को हिसार और रोहतक के अस्पतालों में भर्ती कराया गया था। पुलिस पथराव करने वाले प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोलों और डंडों का इस्तेमाल कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरियाणा में जाट आंदोलन तेज होने के आसार