DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुरैना में अधिकारियों पर पहले भी हुए हैं हमले

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में यह पहला मौका नहीं है जब खनिज माफिया द्वारा किसी अधिकारी पर हमला किया गया हो, बल्कि अधिकारियों पर हमले की अनेक घटनाओं के बावजूद खनिज माफिया के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

इसी तरह की घटना गुरुवार को बामौर में हुई जब कथित तौर पर पत्थर माफिया ने उनके अवैध उत्खनन को पकड़ने का साहस दिखाने वाले युवा आईपीएस अफसर नरेन्द्र कुमार की ट्रैक्टर ट्राली से कुचलकर हत्या कर दी।

इसी पत्थर माफिया के लोगो ने विगत वर्ष मुरैना के तत्कालीन कलेक्टर आकाश त्रिपाठी पर बंदूकों से उस समय हमला किया था, जब वे उनकी अवैध खदानों पर छापा डालने गये थे हालांकि इस हमले में वे बाल बाल बच गये थे।

खनिज माफिया के लोगों ने बीती 31 जनवरी को भी हथियारों की नोंक पर मुरैना के खनिज अधिकारियों से मारपीट कर उनके कब्जे से अवैध पत्थर उत्खनन के सिलसिले में जब्त दो ट्रैक्टरों को रास्ते में ही छीन लिया था। इस घटना की खनिज अधिकारी की रिपोर्ट पर से लूट-डकैती का मामला तो पुलिस ने दर्ज कर लिया था लेकिन माफिया के लोगों को आज तक गिरफ्तार नही कर सकी है।

इस प्रकरण में जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष एवं भाजपा नेता हमीर सिंह पटेल व उनके साथी नामजद हैं, लेकिन पुलिस आज तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार बामौर कस्बे में तैनात प्रशिक्षु आईपीएस अधिकारी नरेन्द्र कुमार ने पत्थरों से भरी ट्रैक्टर ट्राली को पकड़ा था, लेकिन पुलिस अधिकारी का अपनी गिरेबान पर हाथ डालना पत्थर माफिया को नागवार गुजरा। कथित तौर पर उन्होंने युवा अफसर को धक्का देकर ट्रैक्टर के नीचे गिरा दिया फिर उसे मौके पर ही ट्रैक्टर ट्राली से कुचलकर मार डाला।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2009 बैच के आईपीएस अफसर नरेन्द्र कुमार को विगत 45 दिन पूर्व ही राज्य शासन ने बामौर में पदस्थ किया था। उनकी पत्नी मधुरानी भी मध्यप्रदेश की आईएएस अधिकारी हैं। वे इन दिनों ग्वालियर में बतौर अतिरिक्त कलेक्टर पदस्थ है।

बीते एक माह में इस जाबांज पुलिस अफसर ने अपनी छापामार कार्रवाई से खनिज माफिया के दर्जन भर वाहनों को जब्त कर उनको राजसात करने की कार्रवाई की थी। उनकी इन कार्रवाइयों से खनिज माफिया में बेहद खौफ था। कथित तौर पर पहले पत्थर माफिया ने नव पदस्थ आईपीएस अधिकारी नरेन्द्र कुमार को रिश्वत देने की कोशिश की, जब बात नहीं बनी तो इस जघन्य कृत्य को अंजाम दिया गया।

फिलहाल पुलिस ने ट्रैक्टर चालक को गिरफ्तार कर लिया है लेकिन देखना है कि वह खनिज माफिया को सरंक्षण देने वालों के नाम उजागर कर कोई कार्रवाई कर पाती है या नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुरैना में अधिकारियों पर पहले भी हुए हैं हमले