DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईपीएल में गेंदबाजों ने भी बनाई अलग पहचान

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का पांचवां संस्करण बुधवार से शुरू हो रहा है। चार अप्रैल से 27 मई तक चलने वाले ट्वेंटी-20 क्रिकेट के इस मेले में चौकों और छक्कों की बरसात के अलावा विकेटों की पतझड़ भी देखने को मिलेगी। क्रिकेट के इस सबसे छोटे प्रारूप को पहले बल्लेबाजों का खेल माना जा रहा था लेकिन तेज रफ्तार और फिरकी ने भी अपनी अलग पहचान बनाई है।

टूर्नामेंट का पहला संस्करण शुरू होने से पहले पूर्व खिलाड़ियों और क्रिकेट के जानकारों का कहना था कि इस खेल में गेंदबाजों की शामत आने वाली है लेकिन गेंदबाजों ने उनकी बातों को दरकिनार कर अपने ऊपर विश्वास रखा और जमकर विकेट झटककर उन्हें गलत साबित किया।

पिछले चार संस्करणों की तरह इस बार भी सबकी निगाहें बल्लेबाजों के अलावा तेज और स्पिन गेंदबाजों पर भी रहेगी जिन्होंने पिछले चार संस्करणें में विश्व के दिग्गज बल्लेबाजों को अपनी बेहतरीन गेंदबाजी से खूब छकाया है। आईपीएल में अब तक सर्वाधिक विकेट चटकाने का रिकॉर्ड मध्यम गति के गेंदबाज रुद्र प्रताप सिंह के नाम दर्ज है।

रुद्र ने (2008-11 जिनमें डेक्कन चार्जर्स और कोच्चि टस्कर्स की टीमें शामिल हैं) अब तक 56 मैचों में कुल 64 विकेट झटके हैं। इस दौरान उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 22 रन खर्च कर चार विकेट रहा है। आरपी ने इस दौरान कुल 203 ओवर की अपनी गेंदबाजी में 1574 रन लुटाए हैं।

चार्जर्स टीम को वर्ष 2009 में चैम्पियन बनाने में रुद्र की मुख्य भूमिका रही थी। रुद्र ने उस दौरान 16 मैच खेले थे जिनमें उन्होंने 23 विकेट झटके थे। यह आईपीएल का दूसरा संस्करण था। दूसरे संस्करण में सर्वाधिक विकेट झटकने के मामले में रुद्र शीर्ष पर थे।

अजीबो-गरीब एक्शन से गेंदबाजी करने वाले मुम्बई इंडियंस के तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा का स्लिंगा एक्शन आजकल काफी सुर्खियों में है। मलिंगा ने (2009-11) मुम्बई इंडियंस की ओर से कुल 42 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 61 विकेट चटकाए हैं। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 13 रन खर्च कर पांच विकेट रहा है।

मलिंगा ने उपरोक्त ओवरों में 161.3 ओवरों की गेंदबाजी में चार ओवर मेडन रखते हुए 1031 रन खर्च किए हैं। पिछले वर्ष मुंबई को दूसरे और अंतिम क्वालीफाइंग के फाइनल तक का सफर तय कराने में मलिंगा ने बेहतरीन रोल अदा किया था।

मलिंगा ने पिछले वर्ष 16 मैचों में कसी हुई गेंदबाजी कर 28 विकेट झटकने में सफलता पाई थी। इस दौरान उन्होंने 63 ओवर की अपनी गेंदबाजी में दो ओवर मेडन रखते हुए 375 रन खर्च किए थे। वर्ष 2011 में सर्वाधिक विकेट झटकने के मामले में मलिंगा शीर्ष पर थे।

लम्बे समय बाद हाल में भारत की राष्ट्रीय टीम में वापसी करने वाले मध्यम गति के गेंदबाज इरफान पठान ने (2008-11 तक दिल्ली डेयर डेविल्स, किंग्स इलेवन पंजाब) अब तक 56 मैचों में 58 विकेट अपने नाम किए हैं। पठान ने अपने 195.3 ओवर की गेंदबाजी में पांच ओवर मेडन रखते हुए 1510 रन खर्च किए हैं। उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 24 रन पर तीन विकेट रही है।

स्पिन गेंदबाजों में अमित मिश्रा, प्रज्ञान ओझा और पीयूष चावला ने अपनी फिरकी पर दिग्गज बल्लेबाजों को खूब नचाया है। मिश्रा ने (2008-11 डेक्कन चार्जर्स, दिल्ली डेयर डेविल्स) 45 मैचों में 61 शिकार किए हैं। अपने 168.2 ओवर की गेंदबाजी में मिश्रा ने तीन ओवर मेडन फेंकते हुए 1153 रन लुटाए हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 17 रन पर पांच विकेट है। मिश्रा ने पिछले वर्ष 14 मैचों में 19 विकेट चटकाए हैं जिनमें नौ रन देकर चार विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा था।

प्रज्ञान ने चार्जर्स की ओर से अब तक 54 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 60 विकेट चटकाए हैं। इस दौरान उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 21 रन पर तीन विकेट रहा है। चावला ने किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से (2008-11) अब तक 55 मैचों की 55 पारियों में 182 ओवर की गेंदबाजी में 1400 रन खर्च कर कुल 57 विकेट झटके हैं। इस दौरान 17 रन देकर चार विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है।

पिछले वर्ष चावला ने 12 मैचों में 41.2 ओवर की गेंदबाजी की थी जिनमें उन्होंने 336 रन लुटाकर 16 विकेट अपनी झोली में डाले थे। गेंदबाजों के उपरोक्त प्रदर्शन को देखकर कहा जा सकता है कि हर बार की तरह इस बार भी रफ्तार और फिरकी एक बार फिर से जलवा बिखेरने को तैयार होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईपीएल में गेंदबाजों ने भी बनाई अलग पहचान