बोर्ड के अंकों को तवज्जो से बढ़ेगा भ्रष्टाचार - बोर्ड के अंकों को तवज्जो से बढ़ेगा भ्रष्टाचार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोर्ड के अंकों को तवज्जो से बढ़ेगा भ्रष्टाचार

सभी आईआईटी तथा सरकारी इंजीनियरिंग संस्थानों में दाखिले लिए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय जिस सिंगल एंट्रेंस की वकालत कर रहा है अगर वह मौजूदा स्वरूप में लागू हुआ तो उससे शिक्षा के क्षेत्र में भ्रष्टाचार बढ़ सकता है। देश के एक प्रतिष्ठित आईआईटी ने इस बात की आशंका जतायी है।

आईआईटी कानुपर की सीनेट की हाल में हुई एक बैठक में कहा गया कि दाखिले की मेरिट बनाते वक्त अगर सिंगल एंट्रेंस में 12वीं की बोर्ड परीक्षा के मार्क्स को भी तवज्जो दी गयी तो इससे न सिर्फ भ्रष्टाचार बढ़ेगा बल्कि फेवरेटिज्म बढ़ेगी। इसका खामियाजा गरीब बच्चों को भुगतना पड़ेगा। आईआईटी कानुपर की सीनेट की यह विशेष बैठक सिंगल इंजीनियरिंग एंट्रेंस को लागू करने के प्रश्न पर विचार के लिए बुलायी गयी थी।

बैठक में मौजूद सदस्यों ने कहा कि सिंगल एंट्रेंस में बोर्ड परीक्षा के मार्क्स को 40 प्रतिशत वेटेज देने सिर्फ भ्रष्टाचार, परीक्षा में अनुचित तरीकों तथा पक्षपातपूर्ण रवैया बढ़ेगा। दुभार्ग्य से देश में कई बोर्ड ऐसे हैं जो निष्पक्ष ढंग से 12वीं की परीक्षा सुनिश्चित नहीं करते और इनकी परीक्षाओं में व्यापक स्तर पर नकल तथा भ्रष्टाचार की खबरें मीडिया में छायी रहती हैं।

आईआईटी सीनेटे की यह चिंता इसलिए भी अहम है क्योंकि हाल के वर्षों में उत्तर प्रदेश सहित कई बोर्ड परीक्षाओं में खुलेआम नकल के मामले सामने आये हैं। कई अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बाकायदा कई छात्रों से नकल कराने के ऐवज में 10 हजार रुपये तक लिये जाने के मामले सामने भी आये हैं। आईआईटी सीनेट में यह भी कहा गया कि सरकार सिंगल एंट्रेंस की वकालत यह कहकर कर रही है कि इससे कोचिंग खत्म हो जायेगी लेकिन हकीकत तो यह है कि सिंगल एंट्रेंस में बोर्ड मार्क्स को 40 प्रतिशत वेटेज देने से छात्रों को बोर्ड और सिंगल एंट्रेस के लिए कोचिंग लेंगे।

उल्लेखनीय है कि पुराने आईआईटी ने सिंगल एंट्रेंस प्रणाली को लागू करने का विरोध किया है। शनिवार को आईआईटी परिषद की बैठक में भी इस पर कोई सहमति नहीं बनी थी। अब 28 मई को फिर मानव संसाधन विकास मंत्रलय ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलायी है, जिसमें उसे आम राय बनने की उम्मीद है।

आशंका
आईआईटी कानुपर की सीनेट की  विशेष बैठक सिंगल इंजीनियरिंग एंट्रेंस को लागू करने के प्रश्न पर विचार के लिए बुलायी गयी
सूत्रों के मुताबिक 10वीं और 12वीं की परीक्षा में कई छात्रों से नकल कराने के एवज में पैसे लिये जाने के मामले सामने भी आए हैं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बोर्ड के अंकों को तवज्जो से बढ़ेगा भ्रष्टाचार