DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टी20 क्वालीफायर में भी हैं भारतीयों की दो टीम

भारत में मौका नहीं मिलने पर विदेशों में जाकर भाग्य आजमाने वाले क्रिकेटरों की बढ़ती संख्या का ही प्रभाव है कि संयुक्त अरब अमीरात में चल रहे आईसीसी टवेंटी-20 विश्व क्वालीफायर में इतने भारतीय खिलाड़ी भाग ले रहे हैं कि उनसे लगभग दो टीमें तैयार की जा सकती हैं।

दुबई, अबुधाबी और शारजाह में चल रहे इस टूर्नामेंट में कई ऐसे खिलाड़ी भाग ले रहे हैं जिन्होंने क्रिकेट का ककहरा भारत में सीखा लेकिन बाद में अमेरिका, कनाडा, ओमान, कीनिया, हांगकांग आदि देशों में बस गए और अब वहां की राष्ट्रीय टीमों का हिस्सा हैं।

आईसीसी टवेंटी-20 क्वालीफायर में जो 16 टीमें भाग ले रही हैं उनमें से शीर्ष पर रहने वाली दो टीमें सितंबर में श्रीलंका में होने वाले आईसीसी विश्व टवेंटी-20 चैंपियनशिप में भाग लेंगी। क्वालीफायर की इन टीमों में कम से कम 21 ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका जन्म या तो भारत में हुआ या फिर वे भारतीय मूल के हैं।

कनाडा की टीम में सर्वाधिक छह खिलाड़ी भारतीय मूल के हैं। इनमें से नीतिश कुमार को छोड़कर बाकी पांचों खिलाड़ियों ने भारत में रहकर इस खेल की बारीकियां सीखी थी। इनमें हरबीर बैदवान, जिम्मी हंसरा और हीराल पटेल जैसे अनुभवी खिलाड़ी भी शामिल हैं।

अमेरिकी टीम के कप्तान सुशील नाडकर्णी ने अपने करियर की शुरुआत भारत से की। वह महाराष्ट्र और सेना की तरफ से भी खेल चुके हैं। उन्हीं के साथी बल्लेबाज आदित्य मिश्रा कर्नाटक का भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं जबकि अभिमन्यु राजप का जन्म लुधियाना में हुआ था। अमेरिकी टीम में वेस्टइंडीज में जन्में भारतीय मूल के खिलाड़ी गौकरण रूपनारायण भी शामिल हैं।

ओमान के कप्तान ऑलराउंडर हेमंत मेहता हैं जिनका जन्म केरल के कोक्षिकोड में हुआ था। उसकी टीम के मुख्य बल्लेबाज वैभव वेटागांवकर, राजकुमार रणपुरा और जतिंदर सिंह तथा बायें हाथ के स्पिनर अजय लालचेता का जन्म भी भारत में हुआ था।

कीनियाई टीम में मुंबई में जन्में मध्यक्रम के युवा बल्लेबाज तन्मय मिश्रा शामिल हैं जबकि राकेश पटेल और हीरेन वारेया के रूप में दो भारतीय मूल के खिलाड़ी हैं। हांगकांग की टीम में दलजीत सिंह और किचिंत देवांग शाह दोनों ही 16 साल के हैं। गुजरात में जन्में शाह विकेटकीपर हैं। डेनमार्क की टीम में भारतीय मूल के लेग स्पिनर बाबी चावला शामिल हैं।

भारतीय उपमहाद्वीप के अन्य देशों विशेषकर पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाड़ियों ने भी इन टीमों में जगह पायी है। ओमान, हांगकांग, अमेरिका आदि टीमों में पाकिस्तानी मूल के खिलाड़ी शामिल हैं। इटली की टीम में श्रीलंकाई मूल के तीन खिलाड़ी हैं।

इस चैंपियनशिप में पापुआ न्यूगिनी की टीम भी खेल रही है। उसके विकेटकीपर गेरेन्ट जोन्स हैं जो इंग्लैंड की तरफ से 34 टेस्ट मैच खेल चुके हैं। जोन्स का जन्म हालांकि पापुआ न्यूगिनी में हुआ था और वह फिर से अपने मूल देश से जुड़ गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टी20 क्वालीफायर में भी हैं भारतीयों की दो टीम