DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीटरसन ने मानी गलती, मांगी माफी

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के स्टार बल्लेबाज केविन पीटरसन ने बुधवार को स्वीकार किया कि उन्होंने हेडिंग्ले टेस्ट के दौरान दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों को एसएमएस भेजे थे। उन्होंने इसके लिए माफी भी मांगी है।

गत सप्ताह पीटरसन को लॉर्ड्स में खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए टीम में शामिल नहीं किया गया था जबकि हेडिंग्ले टेस्ट में उन्होंने शानदार 149 रनों की पारी खेली थी। उन्होंने एसएमएस में क्या लिखा था, इसका खुलासा करने से उन्होंने इंकार कर दिया था।

बताया जा रहा है कि कुछ एसएमएस में उन्होंने इंग्लैंड के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस और कोच एंडी फ्लावर के लिए अपमानजनक बातें लिखी थीं।

पीटरसन ने इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड को भेजे एक बयान में स्वीकार किया कि मैंने दक्षिण अफ्रीकी टीम के कुछ करीबी मित्रों को एसएमएस भेजे थे, जिन्हें आप अपमानजनक कह सकते हैं। मैं स्ट्रॉस और टीम के सदस्यों से आपत्तिजनक बयान देने के लिए माफी मांगता हूं। मैं वास्तव में नहीं चाहता था कि एक महत्वपूर्ण मैच से पहले टीम में टेंशन पैदा हो।

इससे पहले स्ट्रॉस ने स्काई स्पोर्ट्स से बातचीत में कहा कि मैं पीटरसन के प्रति हमेशा ईमानदार रहा हूं। वह भी मेरे प्रति हमेशा ईमानदार रहे हैं। इसलिए मुझे इस घटना से बहुत आश्चर्य हुआ।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सप्ताहों में जब मुझे लगा कि उसके टीम के अन्य खिलाड़ियों से सम्बंध गड़बड़ हो रहे हैं और मध्यक्रम में हमारी टीम के प्रदर्शन पर असर पड़ने लगा तब मुझे इस मामले में कूदना पड़ा। हमारा मानना है कि ड्रेसिंग रूम की बातें ड्रेसिंग रूम में ही रहनी चाहिए और वे किसी भी सूरत में बाहर नहीं आनी चाहिए।

इस विवाद के बीच इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने पीटरसन के फर्जी ट्वीटर अकाउंट में अपनी भूमिका से इंकार किया है। केपी जीनीयस नाम से इस अकाउंट को ब्रॉड के एक मित्र रिचर्ड बेली ने बनाया है और वह लगातार ड्रेसिंग रूम की गतिविधियों की जानकारी इस अकाउंट पर सार्वजनिक करता था।

पीटरसन ने आशंका जताई कि टीम का कोई सहयोगी इसमें संलिप्त है। ब्रॉड ने कहा कि मैं पुष्ट करना चाहता हूं कि इस पूरे प्रकरण में मेरी कोई भूमिका नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीटरसन ने मानी गलती, मांगी माफी