DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एएमयू वीसी समेत अन्य पर सीबीआई में मुकदमा

सीबीआई देहरादून ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में वित्तीय गोलमाल और नियुक्तियों-प्रमोशन में फर्जीवाड़े के आरोप में यूनिवर्सिटी के तत्कालीन वाइस चांसलर समेत अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। सीबीआई की टीम जल्द ही विवि कैम्पस में पूछताछ के लिए जाएगी।

सीबीआई के पास यूनिवर्सिटी में वित्तीय गड़बड़ी के साथ ही नियुक्तियों और प्रमोशन में फर्जीवाड़े की शिकायतें आ रही थीं। इस मामले की शिकायत केंद्र सरकार से भी की गई थी। केंद्र सरकार से इजाजत मिलने के बाद अब सीबीआई देहरादून शाखा ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

सीबीआई सूत्रों का कहना है कि यूनिवर्सिटी को केंद्र सरकार से सवा करोड़ रुपये की विशेष वित्तीय सहायता मिली थी। इसको यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने मिलीभगत से अनाप-शनाप तरीके से खर्च किया। वहीं शिक्षकों के साथ अन्य कर्मचारियों के चयन और प्रमोशन में भी घालमेल किया गया। सीबीआई ने इस मामले में यूनिवर्सिटी के तत्कालीन वाइस चांसलर के साथ ही संयुक्त वित्त अधिकारी शाकेब अर्सलन और मसूद उर रहमान समेत अन्य को आरोपी बनाकर मुकदमा दर्ज किया है। सीबीआई की तरफ से इस प्रकरण की विवेचना इंस्पेक्टर तेजप्रकाश देवरानी को सौंपी गई है। 

सीबीआई के एएसपी अखिल कौशिक ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि जांच में जो अधिकारी दोषी होंगे उनके खिलाफ संबंधित धाराओं में चार्जशीट बनाकर कोर्ट में पेश की जाएगी।

बोले पूर्व कुलपति 

सीबीआई के मुकदमा दर्ज करने की जानकारी नहीं है। फिर भी मुकदमा दर्ज हुआ है तो मुझे किसी का डर नहीं। जांच में सहयोग करूंगा। मैंन एएमयू में वीसी रहते हुए कोई वित्तीय अनियमितता नहीं की। दाखिले, नियुक्ति और पदोन्नति में भी किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया।

-जमीरउद्दीन शाह, पूर्व वीसी, एएमयू 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cbi file the case against the former vice Chancellor of amu