jweles market closed in protest against loot in agra mathura - आगरा में लूट-हत्या के विरोध में सराफा बाजार बंद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगरा में लूट-हत्या के विरोध में सराफा बाजार बंद

आगरा में लूट-हत्या के विरोध में सराफा बाजार बंद

मथुरा में दो सराफों की हत्या और करोड़ों की लूट के साथ आगरा में सराफों के साथ हुई वारदातों के विरोध में शुक्रवार को शहर का सराफा बाजार बंद रहा। उत्तर प्रदेश सराफा एसोसिएशन के आह्वान पर पुराने शहर के थोक बाजार पूरी तरह बंद रहे।

व्यापारी किनारी बाजार तिराहे पर एकत्रित हुए और प्रदर्शन किया। इन वारदातों पर कड़ा एतराज जताया। मृतक सराफों को श्रद्धांजलि देते हुए मौन रखा। पुलिस प्रशासन से इन वारदातों के अविलंब खुलासे की मांग रखी गई। इस बात पर जोर दिया गया कि बरामदगी पूरे माल की कराई जाए। धरना स्थल पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट संदीप कुमार गुप्ता को मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा गया। धरने में मुरारीलाल फतेहपुरिया, राकेश मोहन, देवेन्द्र गोयल, नितेश अग्रवाल, ओमप्रकाश अग्रवाल, सुशील चौहान, सलमान शाह, बृजमोहन रैपुरिया, मनोज गुप्ता, नरेन्द्र बंसल, राजू मेहरा, सुनील वर्मा, मुकेश अग्रवाल, उमेश गर्ग, हरीकिशन वर्मा, उल्लास दौनेरिया, लक्ष्मी नारायण वर्मा, संजय वर्मा आदि शामिल रहे।

यह बाजार बंद रहे

किनारी बाजार, चौबे जी का फाटक, रोशन प्लाजा, मुकेश पैलेस, जैन पैलेस, प्रह्लाद मार्केट, जूथाराम फाटक, नमक की मंडी, कश्मीरी बाजार, सेव का बाजार

यहां भी सराफा बंद रहा

सुलतानपुरा, नाई की मंडी, पथवारी, लोहामंडी, शाहगंज, एमजी रोड, राजपुर चुंगी, अर्जुन नगर, ट्रांस यमुना कॉलोनी

बंद में शामिल कमेटियां

श्री सराफा कमेटी, सराफा मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन, आगरा सराफा एसोसिएशन, सराफा स्वर्णकार व्यवसायिक कमेटी, किनारी बाजार सराफा कमेटी, सराफा व्यवसायी संघ, सराफा एसोसिएट, द ज्वैलर्स एसोसिएशन

टैक्स के बदले में मिलती हैं गोलियां

प्रदर्शन के दौरान वक्ताओं ने कहा कि प्रशासन का दायित्व है कि वह सराफा व्यापारियों की जानमाल की सुरक्षा करें। ताकि वह बिना डर के जीवन जी सकें। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा। हर मौके पर सरकार को टैक्स देने वाले व्यापारियों को बदले में गोलियां मिल रही हैं। कुछ वक्ताओं ने इन घटनाओं का अभी तक खुलासा न होने के लिए पुलिस प्रशासन की विफलता कहा।

धरना स्थल पर पहुंच समर्थन दिया

सपा शहर अध्यक्ष रईस उद्दीन कुरैशी, सौरव गुप्ता, पार्षद रफत उल्लाह खां, आगरा व्यापार मंडल के अध्यक्ष टीएन अग्रवाल और कन्हैयालाल राठौर, मोतीगंज खाद्य व्यापार समिति के अध्यक्ष रामप्रकाश अग्रवाल, उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के प्रदेश मंत्री रमनलाल गोयल, लुहारगली व्यापार समिति, आगरा मशीनरी व्यापार समिति के सदस्यों ने धरना स्थल पर पहुंच कर अपना समर्थन दिया।

पुलिसिंग में सुधार हो

अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के महासचिव रवि प्रकाश अग्रवाल ने वैश्य-व्यापारियों के साथ हो रही घटनाओं को लेकर चिंता जताई है। उनका मानना है कि पुलिस को सख्त रवैया अपनाना होगा। हाल में मस्ता की बगीची की एक घटना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें वांछित पुलिस ने पकड़ लिया। लेकिन उसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया।

पलायन करने पर विचार

अपनी और पूर्वजों की साख पर सवार होकर कारोबार में नित्य नए कीर्तिमान बना रहे व्यवसायियों को हाल की वारदातों ने हिला दिया। हाल की लूट की घटनाओं के बाद से स्थानीय व्यवसायियों ने आगरा से कहीं दूर जा कर बसने के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया है। बाजार के एक कारोबारी ने बताया कि बुलियन मण्डी को नजदीकी राजस्थान-मध्य प्रदेश के शहर में ले जाने पर विचार शुरू हो गया है। वहीं कुछ व्यापारी आगरा छोड़ कर दूसरे स्थानों पर बसे कारोबारियों की सफलता का उदाहरण दे रहे हैं।

20 करोड़ का कारोबार प्रभावित

शहर के सराफा कारोबार की एक दिन की बंदी से लगभग 20 करोड़ का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। व्यापारियों के अनुसार आगरा के चांदी पायल उद्योग से चार हजार से भी ज्यादा व्यापारी और लगभग दो लाख अन्य लोग जुड़े हैं। बाजार बंद रहने से कोई भी कारोबार नहीं हुआ। घरों में काम करने वाले कारीगरों को भी जॉब वर्क नहीं मिला।

इनका कहना है

हम लोग सरकार को आयकर, वैट के साथ ही रोजमर्रा के सामान की खरीद में टैक्स देते हैं, फिर सुरक्षा में कोताही क्यों। देवेन्द्र गोयल, मंत्री, श्री सराफा कमेटी

ऐसी स्थिति शायद यूपी में ही है। यहां सराफ सॉफ्ट टार्गेट बने हुए हैं। कानून व्यवस्था बेहतर करने को विशेष योजना बनानी होगी। राजेश हेमदेव, पूर्व अध्यक्ष, ज्वैलर्स एसोसिएशन

चिंता की बात है कि ज्यादातर वारदातें अग्रवाल-वैश्य वर्ग के साथ हो रही हैं। जबकि यह वर्ग हमेशा से समाज के हित के साथ जुड़ा रहता है। अशोक गर्ग, पूर्व अध्यक्ष, अग्रवाल संगठन, कमलानगर

सराफों के साथ लूट चिंताजनक है। पुलिस को अपना काम करने का तरीका बदलना होगा। तभी अपराध पर अंकुश लगेगा। गागनदास रामानी, अध्यक्ष, आगरा शू फैक्टर्स फेडरेशन

हाल में जो वारदात हुई, बहुत दुखद हैं। अपराधी तुंरत पकड़ में आने चाहिए अन्यथा व्यापारियों का व्यवस्था पर से विश्वास उठ जाएगा। नरेन्द्र सिंह, अध्यक्ष, नेशनल चैंबर

अपराधियों पर नकेल कसने के लिए पुलिस को अपनी कार्यप्रणाली सुधारनी होगी। नियमित सर्विलांस के तरीके अपनाने होंगे। चरनजीत थापर, अध्यक्ष, आगरा मंडल व्यापार संगठन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jweles market closed in protest against loot in agra mathura