DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगरा में धरतेरस पर बाजार में बरसा धन

धनतेरस पर शुक्रवार को शहर के बाजार गुलजार रहे। सुबह से शुरू हुआ बाजारों में धनवर्षा का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। बाजार में भीड़ देखकर महंगाई का असर ही न दिखा। हालांकि शुक्रवार को ऑटोमोबाइल सेक्टर पर लक्ष्मी कुछ ज्यादा ही मेहरबान दिखीं। दिनभर में एक हजार से ज्यादा चार पहिया व चार हजार से ज्यादा दो पहिया वाहन बिक गए। यदि सभी वाहनों को जोड़ा जाए तो बिक्री 120 करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गई। विशेषज्ञों की चिंता ये है कि आखिर इतनी गाड़ियां समाएंगी कहां। बिक्री के मामले में बुलियन कारोबार भी कमतर नहीं रहा। प्रमुख ज्वैलरों के यहां सोने के जेवर के साथ ही सिक्के आदि खूब बिके। चांदी उत्पादों के लिए भी लंबी लाइनें लगीं। यदि सभी सेग्मेंट जोड़ दिए जाएं तो इस बार धनतेरस पर 500 करोड़ से भी ज्यादा की धनवर्षा शहर के बाजार पर हुई।

सड़क पर दिखेंगे 5000 से ज्यादा नए वाहन

ऑटोमोबाइल के नामचीन ब्रांड के वितरकों के आंकड़ों से तो लगता है कि शहर में पांच हजार नए वाहन सड़क पर दिखेंगे। इसमें अकेले मारुति वितरकों का हिस्सा करीब 400 है। हुंडई के दो वितरक भी 150-200 गाड़ियां बेचने का लक्ष्य पूरा करने में जुटे रहे। चौंकाने वाला आंकड़ा रेनो डीलर का रहा। उनके यहां से एक ही मॉडल की 90 गाड़ियां बिक गईं। दो पहिया वाहनों की बिक्री में भी जबरदस्त बूम रहा। हीरो के चार वितरकों ने लगभग दो हजार बाइक-स्कूटर की बिक्री की। वहीं होंडा वितरकों के यहां भी आंकड़ा एक हजार से ज्यादा का रहा। यामाहा ने पहली बार बाजार में दम दिखाया और सौ से भी ज्यादा वाहन बेचे। टीवीएस सहित अन्य कंपनियां भी अच्छी तादाद में वाहन बेचने में कामयाब रहीं।

बुलियन जेवर में खूब कटी चांदी

कई दिनों से स्थिर चल रहे सोने-चांदी के भावों ने इस बार बाजार को गति दी। सोने के जेवर, सिक्के, चांदी के बर्तन, गिफ्ट, सजावटी आइटम, सिक्के बहुतायत में बिके। संजय प्लेस स्थित ब्रांडेड शोरूम में तो लोगों को अपनी बारी को लंबा इंतजार करना पड़ा। वहीं पास ही स्थित चांदी के शोरूम में लोगों का जमावड़ा देख कर ऐसा लगा मानो सामान मुफ्त में मिल रहा हो। हाल में खुले पीसी ज्वैलर्स के लिए पहली धनतेरस खुशियों की सौगात लाई। लोगों ने यहां सोने के जेवर पर मिल रही छूट का खूब फायदा उठाया। पुराने शहर के चौबेजी का फाटक, किनारी बाजार में चांदी वालों ने जमकर चांदी काटी। शाहगंज, कमला नगर, नगला पदी, बेलनगंज, राजपुर चुंगी, राजामंडी सहित दर्जनों बाजारों में दुकानों पर पैर रखने तक की जगह नहीं थी।

खूब बिके एलईडी, वॉशिंग मशीन

नई तकनीक और बढ़ी हुई वारंटी ने शहर के इलैक्ट्रॉनिक बाजार की रौनक बढ़ा दी। हाल में सस्ते हुए पैनल (एलईडी) ने बिक्री में चार चांद लगा दिए। कुछ कंपनियों की पांच साल वारंटी की पेशकश ने तो धमाल कर दिया। पैनल खराब होने पर महंगी रिपेयरिंग से डर रहे शहर वासियों को यह ऑफर वरदान की तरह लगा। उपहार के ऑफर भी बिक्री बढ़ाने में कामयाब रहे। त्योहार के समय घर पर कुछ नया लाने की शगुन सूची में वॉशिंग मशीन, माइक्रोवेव, रेफ्रिजरेटर, एयरकंडीशनर, ओवन भी शामिल रहे। बीते साल की तुलना में इस बार फुली ऑटोमेटिक मशीन की मांग में इजाफा रहा। खरीदारों ने सुकून देने वाले फीचर को वरीयता दी। बीते सालों में अच्छी बिक्री वाले उत्पाद की सूची में शामिल हुए डबल डोर रेफ्रीजरेटर का क्रेज इस बार भी कायम रहा।

बर्तन बाजार में उमड़ी भीड़

स्टील बर्तनों के दामों में हाल के दिनों में आई कमी से शहर का बर्तन बाजार निहाल हो गया। परंपरा निर्वहन को ही खरीद नहीं रही, घर की जरुरत और रसोई को अपग्रेड करने की ललक भी दुकानों पर दिखी। पुराने शहर के कसेरट बाजार, आजाद गली, पवन मार्केट में दुकानों पर दिन भर बिक्री रही। एमजी रोड, चर्च रोड और कॉलोनियों की दुकानों पर भी दिनभर लोगों की आमद बनी रही। स्टील के बर्तन 170 रुपये किलो से लेकर 350 रुपये किलो तक में बिके। मैट फिनिश में आए डिजाइनर बर्तन खासे मांग में रहे। चम्मच स्टैंड, कटलरी सैट, स्टील के छोटे ग्लासों का सेट, स्टील फिनिश वाला कैसरॉल, छोटे-बड़े डिब्बों का सेट, बाल्टी, टंकी, बर्तनों के लिए टोकरा, स्टेनलैस स्टील से तैयार बर्तन स्टैंड, छोटे-बड़े भगोने सहित सैकड़ों आइटम चयन को उपलब्ध में रहे।

मोबाइल-कंप्यूटर बाजार

तकनीक के साथ कदम ताल करने वाले युवाओं ने इस बार भी धनतेरस मोबाइल बाजार में मनाई। संजय प्लेस की दुकानों पर स्मार्ट फोन के नए मॉडल खूब बिके। नामचीन कंपनियों की नई पेशकश से लेकर चाइना मोबाइल के कारोबार में उतरी अन्य कंपनियों के उत्पाद हाथों हाथ लिए गए। सस्ते हैंडसैट की बिक्री भी अपेक्षा से ज्यादा रही। बड़ी संख्या में इलैक्ट्रॉनिक गैजेट भी बिके। कई मोबाइल कंपनियों के सीएंडएफ एजेंट ने बताया कि इस बार उनके सभी डीलर्स के पास अच्छा रिस्पांस रहा। कई दिनों से बाजार में घूम कर पूछताछ कर रहे लोगों ने धनतेरस के शुभ अवसर पर अपना मनपसंद हैंडसैट आखिर खरीद ही लिया। संजय प्लेस में लैपटॉप के नए वर्जन की बिक्री खूब रही। एलआईसी बिल्डिंग के सामने खुली कैमरे की दुकान पर भी शौकीनों-जरुरतमंदों की आमद दिन भर बनी रही।

ऑफर ने बढ़ाई बिक्री

धनतेरस की बिक्री बढ़ाने में ऑफर का बड़ा योगदान रहा। किसी को हर खरीद पर गिफ्ट जंचे तो किसी ने सीधे डिस्काउंट को वरीयता दी। कुछ कंपनियां तो इससे भी आगे बढ़ीं और महज 101 रुपये के शगुन में महंगे उत्पाद की डिलीवरी दी। भुगतान को आसान विकल्प दिए। कुछ कंपनियों ने तो शॉपिंग अभी करने और पेमेंट अगले साल करने का स्लोगन दिया।

रियल एस्टेट में खूब हुए सौदे

इस सेग्मेंट में तुरंत बिक्री तो संभव नहीं। इसके बावजूद धनतेरस के शुभ मुहुर्त में सौदों की बुकिंग खूब हुई। संजय प्लेस सहित अन्य क्षेत्रों में बिल्डरों के ऑफिस पर लोगों ने उनकी रिहाइशी और व्यवसायिक योजनाओं का ब्योरा लेकर बुकिंग कराई। पुरानी प्रॉपर्टी के सौदों को भी धनतेरस के मुहुर्त में फाइनल किया गया।

खूब बिके गिफ्ट

गिफ्ट की भी भरपूर बिक्री रही। कारोबारियों ने अपने कामगारों के लिए उचित रेंज में पसंद आने वाले आइटम खरीदे। पारिवारिक लेन-देन को भी गिफ्ट खरीदे गए। परंपरागत मिठाई, पेठा से लेकर सूखे मेवे, बिस्किट, नमकीन, चॉकलेट, किचिनवेयर, ग्लासवेयर, थर्मोवेयर और बिजली उपकरण आदि की बिक्री खूब हुई।

फड़ों पर भी खूब बिक्री

स्थायी दुकानों के साथ ही सीजनल फड़ों पर दिनभर भीड़ उमड़ी। सभी प्रमुख बाजारों में मिठाई, सजावटी सामान, पूजन सामग्री, खील, ड्राईफ्रूट्स, बिजली की झालरें, रंगोली, बंधनवार, फिल्मी और धार्मिक पोस्टर्स, शुभ-लाभ स्टिकर्स सहित दर्जनों किस्म की दुकानों पर महिलाओं और पुरुषों की लगातार आमद बनी रही।

इनको भी मिले कद्रदान

डिजाइनर दीप और मोमबत्ती भी आकर्षण का केंद्र बने रहे। सदाबहार डोर हैंगिंग, तरह-तरह के तोरण और बंधनवार, गणेश शोपीसों को पसंद किया गया।

ऑनलाइन को ठेंगा

नई पीढ़ी ऑनलाइन पर भरोसा करती है। लेकिन धनतेरस पर बाजार में भीड़ का आलम देख कर कोई भी कह सकता है कि चीज देखकर ही खरीदी जाती है।

प्रतिक्रियाएं

इस बार बंपर बुकिंग रही। सभी मॉडलों की अच्छी डिमांड रही।

नवीन नारंग, जीएम, केटीएल

इस बार उम्मीद से ज्यादा बिक्री रही। सभी सेग्मेंट के वाहन बिके।

मयंक अग्रवाल, निदेशक, अरविंद मोटर्स

इस बार बेहतरीन रिस्पांस मिला। कई मॉडल का स्टॉक खत्म हुआ।

आशुतोष बंसल, निदेशक, रेनो आगरा

हमने जितना लक्ष्य लिया था, दोपहर तक ही उतनी गाड़ियां बिक गईं।

राजेश मोहन सक्सेना, निदेशक, जेआर यामाहा

हमारी पहली धनतेरस है। लेकिन उम्मीद से ज्यादा रिस्पॉन्स मिला।

प्रियंक गुप्ता, फ्रेंचाइजी, पीसी ज्वैलर्स

लोगों ने धनतेरस के गुडलक को भुनाने में कोई कसर नहीं रखी।

सतेंद्र बंसल, कनक सान्वी ज्वैलर्स

लोगों के अंदर अपग्रेड होने की चाहत ने ही धनतेरस को यादगार बनाया।

अजय अग्रवाल, फ्रंटलाइन इलैक्ट्रिकल्स

कंपनियों के ऑफर कामयाब रहे। लोगों ने जमकर छूट का फायदा लिया।

अजय गर्ग, आरके मार्केटिंग

बड़ी संख्या में लोगों ने धनतेरस पर ही सहालगी सीजन को खरीद की।

राजकुमार मंगनानी, राजकुमार्स

धनतेरस पर बहुत ही अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। लोग खूब खरीद कर रहे।

अनूप सुराना, बच्चूमल कलेक्शन

सिर्फ नामचीन ब्रांड ही नहीं, अन्य मेक के मोबाइल भी खूब खरीदे गए।

लोकेन्द्र अग्रवाल, मोबाइल सेल्स सेंटर

एक नजर बिक्री पर (रुपये करोड़ में)

सोना ब्रिक, बिस्कुट, सिक्के आदि 80 करोड़

चांदी सिल्ली, सिक्के, गिफ्ट 70 करोड़

जेवर (सोना-हीरा, चांदी) 60 करोड़

बड़े वाहन (सभी कार और कॉमर्शियल वाहन)- 80 करोड़

दोपहिया वाहन (बाइक और अन्य किस्म)- 30 करोड़

बर्तन, किचिनवेयर आदि 40 करोड़

इलैक्ट्रोनिक्स, बिजली उपकरण 50 करोड़

मोबाइल, गैजेट, कंप्यूटर आदि 40 करोड़

विविध सामग्री- 50 करोड़

(आंकड़े अनुमान पर आधारित हैं। जनपद में रहे रहे सात लाख से भी ज्यादा परिवारों की संख्या और कारोबारियों के पास से होने वाली बिक्री को आधार बनाया गया है।)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dhanters showering money on the market