DA Image
11 अप्रैल, 2020|12:58|IST

अगली स्टोरी

पशुओं का होगा बीमा, पशुपालकों को मिलेगी राहत

पशुपालन विभाग ने पशुओं की बीमारी या किसी दुर्घटना में मौत हो जाने से पशुपालक को घाटे से बचाने के लिए बीमा योजना तैयार की है।

अब पशुपालकों के पशुओं का बीमा होगा। बीमा की किश्त का एक बड़ा भाग विभाग की ओर से कंपनी को दिया जाएगा। एक निजी बीमा कंपनी से करार किया गया है। जल्द ही जिले में इसकी शुरुआत की जाएगी।

कई बार पशु के बीमार पड़ने से अचानक उसकी मौत हो जाती है। कई बार क्षेत्र में बीमारी फैल जाने से पशुओं की मौत हो जाती है। इससे पशुपालकों को नुकसान होता है। दुधारू पशु की मौत के बाद पशुपालकों को इस घाटे से उबरने में लंबा समय लग जाता है। नुकसान की भरपाई करने के लिए पहले भी निजी बीमा कंपनियां पशुओं का बीमा करती थीं। इसके लिए किसानों को लगभग एक हजार रुपये की किश्त का भुगतान करना पड़ता है। ऐसे में कई पशुपालक अपने पशुओं का बीमा कराने से छूट जाते थे। जिसे ध्यान में रखते हुए इस बार शासन ने पशु बीमा की 75 फीसद किश्त वहन करने का निर्णय लिया है। जिले में जल्द ही यूनाइटेड इंश्योरेंस बीमा कंपनी पशुओं के बीमा कराने का कार्य शुरू कर देगी। शासन स्तर पर इस कंपनी को हरी झंडी मिल गई है। जनपद में 7,81, 979 पशुओं का बीमा कराया जाना है। पशुओं के बीमा दो वर्ष बाद हो रहे हैं।

40 हजार रुपये तक का होगा बीमा

बीमा कंपनी पशु की उम्र और कीमत के अनुसार 40 हजार रुपये तक का बीमा करेगी। अगर पशु की किसी बीमारी या दुर्घटना में मौत होती है तो बीमा कंपनी पशुपालक को 40 हजार रुपये का भुगतान करेगी।

बकरी का भी करा सकेंगे बीमा

बीमा कंपनी अब तक गाय व भैंस का बीमा करती रही है। इस बार बकरी व अन्य छोटे जानवरों का भी बीमा कराया जा सकेगा। इसके लिए छोटे दस जानवरों को एक यूनिट मानकर बीमा किया जाएगा। अभी तक एक पशुपालक केवल दो गाय व भैंस का बीमा करा सकते थे, लेकिन अब यह संख्या बढ़ाकर पांच कर दी गई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Animals will get insurance, cattle feeders will get relief