आनंद पांचवीं बार बने शतरंज के सरताज - आनंद पांचवीं बार बने शतरंज के सरताज DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आनंद पांचवीं बार बने शतरंज के सरताज

आनंद पांचवीं बार बने शतरंज के सरताज

भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने बुधवार को तनाव भरे रेपिड शतरंज टाईब्रेकर में इस्राइल के चैलेंजर बोरिस गेलफेंड को हराकर लगातार चौथी और कुल पांचवीं बार विश्व खिताब जीत लिया।

आनंद ने यहां स्टेट त्रेत्याकोव गैलरी में चार बाजियों के टाईब्रेकर में दूसरी बाजी जीती जबकि बाकी तीन बाजियां उन्होंने ड्रा करायी। भाग्य ने भी अंतिम बाजी में अहम भूमिका निभाई जिससे भारत का दिग्गज खिलाड़ी जीत दर्ज करने में सफल रहा।

बारह क्लासिकल बाजियों के बाद मुकाबला 6-6 से बराबर रहा था जिसके बाद नतीजे के लिए रेपिड टाईब्रेकर का सहारा लिया गया जिसमें आनंद ने 2.5-1.5 से बाजी मार ली और कुल पांचवीं तथा 2007 के बाद लगातार चौथी बार विश्व चैम्पियन बने। इस जीत का मतलब है कि भारत का यह दिग्गज शतरंज खिलाड़ी 2014 तक विश्व चैम्पियन रहेगा जब अगली विश्व चैम्पियनशिप का आयोजन किया जाएगा।

मुकाबला काफी तनाव भरा रहा जिसने त्रेत्याकोव गैलरी में मास्को के मौसम में भारत की गर्मियों का अहसास करा दिया। शतरंज बोर्ड पर गर्मागर्म चर्चा, उतार-चढ़ाव भरी बाजियां और इससे भी अधिक चैम्पियन और चैलेंजर के बीच कड़ा संघर्ष देखने को मिला।

आनंद की सफलता का श्रेय उनकी तेजी को जाता है। अधिकांश मौकों पर देखा गया कि गेलफेंड के पास अंत में सिर्फ कुछ सेकेंड बचे हैं जबकि आनंद ने पास तब भी कुछ मिनट का समय बाकी था।

गेलफेंड ने पहली बाजी सफेद मोहरों के साथ खेली लेकिन उन्हें अपनी शुरुआत से कोई फायदा नहीं मिला। इस्राइली खिलाड़ी की गलती के कारण आनंद फायदे की स्थिति में दिखे लेकिन खेल आगे बढ़ने पर भारतीय खिलाड़ी ने भी गलती करते हुए मौका गंवा दिया।

गेलफेंड ने मौके बनाए लेकिन अपनी स्थिति मजबूत करने से पहले ही इस्राइली खिलाड़ी मुसीबत में घिर गया क्योंकि उनके पास काफी कम समय बचा था। जल्द ही दोनों खिलाड़ी ड्रा के लिए राजी हो गए जिससे गेलफेंड ने राहत की सांस ली होगी।
    
आनंद ने इसके बाद दूसरी बाजी में सफेद मोहरों के साथ खेला। इस बाजी में काफी उतार चढ़ाव देखने को मिला। यह बाजी ड्रा हो सकती थी लेकिन गेलफेंड ने जोखिम उठाया और आनंद ने मुकाबले में वापसी कर ली। इसके बाद यह बाजी ड्रा की ओर बढ़ रही थी लेकिन अपनी तेज चालों के लिए मशहूर आनंद ने गेलफेंड पर दबाव बनाया और समय की कमी के बीच इस इस्राइली खिलाड़ी ने अंतत: गलती कर दी जिससे आनंद दूसरी बाजी जीतने में सफल रहे।

गेलफेंड के पास तीसरी बाजी में संभवत: वापसी करने का अंतिम मौका था लेकिन उन्होंने फिर गलती करके मौका गंवा दिया। गेलफेंड जल्द ही काफी मजबूत स्थिति के साथ जीत की ओर बढ़ रहे थे लेकिन एक बार फिर उन्हें वही पुरानी समय की कमी का सामना करना पड़ा। आनंद ने इसी का फायदा उठाते बाजी ड्रा करा ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आनंद पांचवीं बार बने शतरंज के सरताज