DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए पैटर्न पर होगी 11वीं की परीक्षा

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने 11वीं की परीक्षा को नए पैटर्न पर आयोजित कराने की योजना बनायी है। सीबीएसई पाठय़क्रम को लागू करने के बाद अब उसकी तर्ज पर मॉडल पेपर जारी किया है। इसी मॉडल पेपर को आधार बनाकर उच्च माध्यमिक स्कूलों व इंटर कॉलेजों में 11वीं की परीक्षा आयोजित की जाएगी। समिति प्रशासन ने वर्ष 2010 की इंटर परीक्षा में सभी विषयों में ऑप्टिकल मैग्नेटिक रीडर (ओएमआर) शीट के प्रयोग की योजना बनायी है। समिति के अध्यक्ष प्रो. एकेपी यादव ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि 11वीं परीक्षा और 2010 में होनेवाली सेंटअप परीक्षा के माध्यम से छात्रों को ओएमआर शीट को भरने में दक्ष बनाने की योजना है ताकि 2010 की वार्षिक परीक्षा में ओएमआर शीट का प्रयोग किया जा सके। उन्होंने कहा कि स्टूडेंट सपोर्ट प्रोग्राम के तहत 11वीं के छात्रों के लिए भी इस वर्ष प्रारूप प्रश्न-पत्र प्रकाशित कराया है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि विज्ञान, कला, वाणिज्य व मानविकी (भाषा) संकाय के सभी विषय के प्रारूप प्रश्न-पत्र का प्रकाशन किया गया है। प्रत्येक विषय के मॉडल पेपर में प्रश्नों के चार सेट हैं। प्रायोगिक विषयों के पत्र में एक सेट में 160 प्रश्न व 100 अंक वाले विषयों के पत्र में 200 प्रश्न दिए गए हैं। अध्यक्ष ने कहा कि इसके प्रयोग से छात्रों को 11वीं के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं में भी काफी सहूलियत मिलेगी। उन्होंने कहा कि 11वीं की परीक्षा के प्रति छात्रों को संवेदनशील बनाने के लिए यह उपाय किए जा रहे हैं। मॉडल प्रश्न-पत्र सभी शिक्षण संस्थानों को मुफ्त में उपलब्ध कराया जाएगा। उच्च माध्यमिक स्कूल व कॉलेजों के प्राचार्य को 26 अप्रैल तक इसे समिति कार्यालय से लेने का निर्देश दिया गया है। प्रेस काफ्रेंस में समिति के सचिव अनूप कुमार सिन्हा भी मौजूद थे। ड्ढr गए थे कॉपी की पैरवी कराने, पहुंचे हवालातड्ढr पटना (हि.प्र.)। आए थे पैरवी कराने। अपने बच्चों को इंटर परीक्षा में पास कराने। पहुंच गए हवालात। मामला है कॉलेज ऑफ कॉमर्स का। कॉलेज में इंटर कॉपियों का मूल्यांकन चल रहा है। इस दौरान कई लोग मूल्यांकन केंद्रों का चक्कर लगाते रहते हैं ताकि परीक्षकों से मिलकर नंबर बढ़वाया जा सके।ड्ढr कॉलेज में मंगलवार को दो लोग अनाधिकृत रूप से घूमते पाए गए। सीतामढ़ी के राकेश व अशोक से जब कॉलेज के कर्मचारी ने बात की तो वे घबरा गए। इसके बाद उन्होंने कर्मचारी को बरगलाने की कोशिश की लेकिन उसने तत्काल प्राचार्य को बुलवा लिया। प्राचार्य डा. सुभाष प्रसाद सिन्हा वहां पहुंचे और उन्होंने दोनों से पूछताछ शुरू की तो उसने कहा कि मैं पटना से हूं। जेब की तालाशी के क्रम में उसके पास से रॉल कोड व रॉल नंबर से संबंधित विवरण प्राप्त हुआ।ड्ढr ड्ढr इस बार में प्राचार्य ने बताया कि जेब से पुर्जा मिलने के बाद दोनों ने स्वीकार किया कि पैरवी कराने के लिए हम सीतामढ़ी से आए है। इसके बाद पत्रकार नगर थाना को इसकी सूचना दी गयी। प्राचार्य ने कहा कि इस प्रकार के पैरवीवालों पर लगाम लगाने के लिए कड़े कदम उठाने जरूरी हैं। कॉलेज प्रशासन ने दोनों पैरवीकारों पर प्राथमिकी दर्ज कराकर पुलिस के हवाले कर दिया। पत्रकार नगर थानाध्यक्ष संजय पांडेय ने बताया कि दोनों एकाउंट्स की कॉपी की पैरवी करने आए थे। उन्होंने कहा कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है। अगर इन दोनों ने फाइन नहीं भरा तो उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नए पैटर्न पर होगी 11वीं की परीक्षा