ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRYEIDA के ये 2 सेक्टर बनेंगे हायर एजुकेशन हब, देश-विदेश के कई विश्वविद्यालय दिखा रहे दिलचस्पी

YEIDA के ये 2 सेक्टर बनेंगे हायर एजुकेशन हब, देश-विदेश के कई विश्वविद्यालय दिखा रहे दिलचस्पी

यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के दो सेक्टर शैक्षिक हब के रूप में विकसित होंगे। एयरपोर्ट आने से यहां राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के विश्वविद्यालय दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

YEIDA के ये 2 सेक्टर बनेंगे हायर एजुकेशन हब, देश-विदेश के कई विश्वविद्यालय दिखा रहे दिलचस्पी
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा। हिन्दुस्तानTue, 28 May 2024 02:27 PM
ऐप पर पढ़ें

यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के सेक्टर-17A और 22E शैक्षिक हब के रूप में विकसित होंगे। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट आने से यहां राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के विश्वविद्यालय दिलचस्पी दिखा रहे हैं। वहीं, जून में सेक्टर-22E में दिव्यांग और ऑटिज्म बीमारी से पीड़ित बच्चों के लिए स्कूल खोलने की योजना है।

प्राधिकरण के अधिकारी ने बताया कि सेक्टर-22E और सेक्टर-17A को विश्वविद्यालयों के केंद्र के रूप में विकसित करने की योजना बनाई गई है। फिलहाल सेक्टर-22E में तीन विश्वविद्यालय जेबीएम, नरसी मोनजी और फोर स्कूल निर्माणाधीन हैं। इस सेक्टर में छह विश्वविद्यालयों को जमीन आवंटित करने की योजना है, जबकि सेक्टर-17A में दो विश्वविद्यालय गलगोटिया और नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी का पहले से संचालन किया जा रहा है। अब यहां पर ऑटिज्म यानि की मानसिक विकार से जुड़ी बीमारी से पीड़ित बच्चों और हर प्रकार के दिव्यांग बच्चों के लिए विशेष स्कूल खोलने की भी तैयारी चल रही है।

नोएडा से आगरा तक 6 जिलों में 300 जगह अवैध निर्माण पर गरजेंगे बुलडोजर, YEIDA ने दिया अल्टीमेटम

बता दें कि ऑटिज्म पीड़ित बच्चों के लिए 10 हजार वर्गमीटर और दिव्यांग बच्चों के लिए 20 हजार वर्गमीटर में स्कूल खोलने का मौका दिया जाएगा। जून में स्कीम निकाली जाएगी। इसके अलावा अस्पताल, नर्सिंग होम, वृद्ध आश्रम, प्रशिक्षण केंद्र, धार्मिक इमारतें आदि बनाने को लेकर भी योजनाओं पर काम चल रहा है।

सेक्टर में सिर्फ स्कूल-कॉलेजों को भूमि आवंटित होगी : यमुना सिटी में नोएडा एयरपोर्ट का संचालन होना है। इसके मद्देनजर यमुना प्राधिकरण ने क्षेत्र में विश्व स्तरीय शिक्षण संस्थानों को विकसित करने पर बल देना शुरू कर दिया है। बसावट से पहले यहां पर कॉलेज व स्कूलों का निर्माण शुरू कराने की तैयारी है।

सेक्टर-17ए में 95 प्रतिशत भूखंडों का आवंटन

संस्थागत सेक्टर 17A में कुल भूखंडों की संख्या 89 है। इनके क्षेत्रफल अलग-अलग है। प्राधिकरण के अनुसार अभी तक 85 भूखंडों का आवंटन किया जा चुका है। 80 प्रतिशत से अधिक सेक्टर में मूलभूत सुविधाएं तक विकसित हो चुकी है। वहीं, सेक्टर-22ई में कुल 81 भूखंड हैं, जिनमें से 41 का आवंटन हुआ है। शेष भूखंडों पर विश्वविद्यालय समेत विभिन्न प्रकार के दफ्तरों के निर्माण को प्राधिकरण अगले महीने स्कीम शुरू करेगा। इस सेक्टर में शत प्रतिशत सुविधाएं विकसित करने का दावा किया गया है।

यमुना सिटी के सीईओ अरुणवीर सिंह ने बताया कि सेक्टर-22ई और सेक्टर-17ए को शैक्षिक हब के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां पर मूलभूत सुविधाओं को विकसित करने का काम तेजी से चल रहा है।