DA Image
2 जनवरी, 2021|5:52|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली: खतरे के निशान से ऊपर बह रही यमुना, बढ़ा बाढ़ का खतरा

yamuna river water cross danger level

यमुना का जलस्तर सोमवार शाम पांच बजे खतरे के निशान 205.33 को पार कर गई है। हरियाणा से लगातार छोड़े जा रहे पानी के चलते पानी का स्तर लगातार बढ़ रहा है। अगले दो दिन दिल्ली पर भारी हैं। यमुना के तेजी से बढ़ते जलस्तर को देखते हुए दिल्ली सरकार भी अलर्ट मोड में आ गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार दोपहर आपात बैठकर बुलाकर स्थिति से निपटने की तैयारियों का जाएजा लिया। 

रविवार शाम पांच बजे यमुना का जलस्तर 203.37 मीटर था। यही वह समय था जब हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से एक साथ 8.28 लाख पानी छोड़ा गया। ठीक 24 घंटे बाद सोमवार को शाम पांच बजे यमुना का जलस्तर 205.36 मीटर दर्ज किया गया जो कि खतरे के निशान 205.33 मीटर से 0.3 मीटर ऊपर बह रहा था। सरकार का कहना है कि आठ लाख क्यूसेक पानी सोमवार शाम छह बजे से दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है। यह पानी 26 से 36 घंटे के भीटर दिल्ली पहुंचेगा। ऐसे में अगले 48 घंटे यमुना के जलस्तर 207 को पार कर जाने की संभावना है।

बाढ़ का खतरा:CM केजरीवाल बोले,दिल्ली के लिए आने वाले 2 दिन मुश्किल भरे

टूट सकते हैं रिकार्ड
2013 में हरियाणा से जब एक साथ 8.06 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। तब यमुना का अधिकतम जलस्तर 207.32 मीटर तक पहुंच गया था। यह 1978 के बाद (तब 207.43 मीटर था) दूसरा मौका था जब यमुना का जलस्तर दूसरी बार रिकार्ड स्तर पर पहुंचा था। रविवार को हरियाणा ने 8.28 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा है।  लगातार दो घंटे में दो बार आठ लाख क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया। इसके चलते अंदाजा लगाया जा रहा है कि  1978 में रिकार्ड जलस्तर भी इस बार टूट सकता है। दिल्ली में बाढ़ की चपेट में आ जाएगी।

गोताखोर और नाव भी तैयार
अगले दो दिन यमुना के जलस्तर में रिकार्ड बढ़ोत्तरी की आशंका को देखते हुए सरकार भी अलर्ट मोड में आ गई है। सभी विभागों को अलर्ट मोड में डालने के बाद यमुना के तटबंध को खाली कराने का काम शुरू कर दिया गया है। उन्हें अस्थायी रूप से बनाएं गए टेंट में शिफ्ट किया जा रहा है। इसके अलावा 27 से अधिक गोताखोरों की टीम तैनात की गई है। 30 वोट पर लगातार यमुना के तटबंध इलाकों में यमुना नदी के जरिए पेट्रोलिंग की जा रही है। टेंट में रह रहे लोगों के लिए पानी, बिजली और खाने तक की व्यवस्था की जा रही है। 

9 साल बाद यमुना में बाढ़ का खतरा, सिंचाई विभाग ने जारी किया हाई अलर्ट

मुख्यमंत्री का बयान 
हथिनी कुंड बैराज से अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने से बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। अगले दो दिन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सरकार ने सभी जरूरी उपाय कर लिए है। बचाव तल को अलर्ट कर दिया गया है। सभी विभागों को भी अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। यमुना तटबंध में रह रहे लोगों को खाली कराया जा रहा है। सरकार ने कंट्रोल रूम व हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिया है। किसी भी तरह की परेशानी होने पर या फंसे होने पर लोग वहां से मदद ले सकते है। 

इस तरह बढ़ता रहा यमुना का जलस्तर
समय        जलस्तर(मीटर में)
सुबह 6 बजे    204.40
सुबह 9 बजे    204.70
दोपहर 12 बजे    204.99
दोपहर 3 बजे    205.20
शाम 6 बजे    205.36
शाम 7 बजे    205.40

205.33 है खतरे का निशान 
यमुना में अब तक सबसे अधिक जलस्तर
वर्ष        जलस्तर (मीटर में)
1978        207.43
1988        206.92
1995        206.93
2013        207.32
2019        205.40 अभी तक (19 अगस्त 2019 शाम 7 बजे)

आपातकालीन नंबर व कंट्रोल रूम नंबर
011-22421656
011-21210849
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:yamuna river water cross danger level possibility of flood in delhi