ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRयमुना एक्सप्रेसवे के किनारे बनेगी टाउनशिप, 4 SEZ भी होंगे विकसित; राया हेरिटेज सिटी की DPR को मंजूरी

यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे बनेगी टाउनशिप, 4 SEZ भी होंगे विकसित; राया हेरिटेज सिटी की DPR को मंजूरी

यमुना प्राधिकरण आगरा में यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे 10,500 अर्बन सेंटर विकसित करेगा। पहले चरण में इंटीग्रेटेड टाउनशिप विकसित की जाएगी। इसमें चार स्पेशल इकोनॉमिक जोन (एसीईजेड) होंगे।

यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे बनेगी टाउनशिप, 4 SEZ भी होंगे विकसित; राया हेरिटेज सिटी की DPR को मंजूरी
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा। सुनील पाण्डेयTue, 30 Jan 2024 08:26 AM
ऐप पर पढ़ें

यमुना प्राधिकरण (Yamuna Expressway) आगरा में यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे 10,500 अर्बन सेंटर विकसित करेगा। पहले चरण में इंटीग्रेटेड टाउनशिप विकसित की जाएगी। इसमें चार स्पेशल इकोनॉमिक जोन (एसीईजेड) होंगे। इसमें इलेक्ट्रानिक्स मैन्युफैक्चरिंग हब पर जोर रहेगा।

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि टाउनशिप की रूपरेखा तय करने के लिए विशेषज्ञ कंपनी तय हो गई है। कंपनी अगले दो महीने में अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट देगी। यमुना प्राधिकरण की सोमवार को हुई बोर्ड बैठक में टाउनशिप पर मुहर लग गई। पहले चरण में यमुना एक्सप्रेसवे के दोनों ओर डेढ़-डेढ़ किलोमीटर के दायरे में यह विकास होगा।

कच्ची कॉलोनियों में रहने वालों के लिए बुरी खबर; नगर निगम का इस काम से इनकार

एसईजेड के लिए कंपनी चयनित : यहां पर नॉन पॉल्यूटेड फैक्ट्री लगेंगी। इंटीग्रेटेड टाउनशिप में चार एसईजेड बनेंगे। इसमें इलेक्ट्रानिक्स मैन्युफैक्चरिंग हब, डेटा सेंटर आदि को जगह मिलेगी। इस टाउनशिप की रूपरेखा मार्स कंपनी बनाएगी। कंपनी का चयन हो गया। यहां उद्योगों के साथ आवासीय, व्यावसायिक, संस्थागत गतिविधियां भी होंगी। उद्योगों के साथ यहां पर्यटन और ट्रांसपोर्ट को प्राथमिकता दी जाएगी। यहां सबसे ज्यादा 25 प्रतिशत में औद्योगिक गतिविधियां होंगी और 20 प्रतिशत में आवासीय योजनाएं आएंगी। यीडा सिटी 37000 हेक्टेयर में विकसित होगी।

यमुना प्राधिकरण के 42000 आवंटियों की हुईं मौज, मिल गईं ये 3 बड़ी राहत

दूसरी ओर यमुना पुस्ते पर नोएडा-ग्रेनो के बीच बनने वाले नए एक्सप्रेसवे के लिए नोएडा प्राधिकरण ने फिजिबिलिटी रिपोर्ट एनएचएआई को भेज दी है। जल्द ही एनएचएआई की टीम मौके पर आकर निरीक्षण करेगी। नोएडा प्राधिकरण की तरफ से भेजी गई फिजिबिलटी रिपोर्ट में सामने आया है कि सेक्टर-94 से यमुना पुस्ता के साथ ग्रेटर नोएडा तक एक्सप्रेसवे बनाने के लिए जमीन उपलब्ध है। यहां पर एक्सप्रेसवे बनाया जा सकता है। एक्सप्रेसवे एलिवेटेड या जमीन पर बनाने के दोनों विकल्प मौजूद हैं।

राया हेरिटेज सिटी के लिए डीपीआर को मंजूरी

वहीं, यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे विकसित होने वाली राया हेरिटेज सिटी की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) पर मुहर लग गई। राया हेरिटेज सिटी 753 एकड़ में विकसित की जाएगी। इसके विकास पर करीब 1220 करोड़ रुपये खर्च होंगे। यमुना प्राधिकरण ने यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे राया के पास हेरिटेज सिटी विकसित करने की योजना बनाई। इसकी डीपीआर सीबीआरई ने बनाई है। राया के पास से वृंदावन में यमुना नदी तक करीब सात किलोमीटर का 100 मीटर चौड़ा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे बनाया जाएगा। इसके दोनों और हेरिटेज सिटी विकसित होगी। यह पीपीपी मॉडल पर विकसित की जाएगी। इसमें थीम बेस्ड हेरीटेज सेंटर, योग वैलनेस सेंटर, कन्वेंशन सेंटर, होटल, स्थानीय कला एवं कलाकालों के लिए हॉट आदि विकसित किए जाएंगे। ब्रज तीर्थ विकास परिषद ने इसके लिए कुछ सुझाव दिए थे। उन सुझाव को शामिल कर डीपीआर में संशोधन किया गया। सोमवार को बोर्ड बैठक में डीपीआर रखी गई, जिसे पास कर दिया गया। अब बिड इवैल्यूएशन कमेटी इस पर निर्णय लेगी। इसके बाद विकासकर्ता कंपनी के चयन की प्रक्रिया शुरू होगी। यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि अब डीपीआर बिड इवैल्यूएशन कमेटी के पास जाएगी। इसके बाद विकासकर्ता का चयन किया जाएगा।

मास्टर प्लान पर मुहर

यमुना प्राधिकरण के बोर्ड ने मास्टर प्लान-2041 का अनुमोदन कर दिया। बोर्ड की स्वीकृति के बाद अब इसे उत्तर प्रदेश शासन को भेजा जाएगा। अब यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में 1149 गांव अधिसूचित हो जाएंगे। वहीं, इसमें 1050 हेक्टेयर और जमीन एविएशन हब के लिए दे दी गई है। यमुना प्राधिकरण छह जनपदों गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर, हाथरस, अलीगढ़, मथुरा एवं आगरा तक फैला हुआ है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें