ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRबीवी के लिए खरीदना चाहता था फ्लैट, जल्द पैसा कमाने के लिए किया कुछ ऐसा; पहुंच गया जेल

बीवी के लिए खरीदना चाहता था फ्लैट, जल्द पैसा कमाने के लिए किया कुछ ऐसा; पहुंच गया जेल

वह अपनी पत्नी के सपनों को जल्द से जल्द पूरा करना था। उसके लिए फ्लैट खरीदना भी चाहता था। लेकिन पैसे की कमी के कारण ऐसा नहीं कर पा रहा था। उसने जल्द पैसा कमाने के लिए ऐसा तरीका निकाला कि जेल पहुंच गया।

बीवी के लिए खरीदना चाहता था फ्लैट, जल्द पैसा कमाने के लिए किया कुछ ऐसा; पहुंच गया जेल
Subodh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 22 Jun 2024 09:59 AM
ऐप पर पढ़ें

वह अपनी पत्नी के सपनों को जल्द से जल्द पूरा करना था। उसके लिए फ्लैट खरीदना भी चाहता था। लेकिन, एक निजी फर्म में कम सैलरी पर काम करने की वजह से ऐसा नहीं कर पा रहा था। उसने जल्द पैसा कमाने के लिए ऐसा तरीका निकाला कि सीधे जेल पहुंच गया।  

एक निजी फर्म में काम करने वाला व्यक्ति पर्याप्त पैसा नहीं कमा पा रहा था। उसे अपनी पत्नी के सपनों को पूरा करना था और परिवार के लिए फ्लैट भी खरीदना चाहता था। फिर उसने टीवी शो क्राइम पेट्रोल से प्रेरित होकर ज्याद पैसा कमाने के लिए तरकीब सोची। उसने कथित तौर पर गैंगस्टर के नाम पर एक डॉक्टर से जबरन वसूली करने की, लेकिन उसकी तरकीब काम नहीं आई और वह सलाखों के पीछे पहुंच गया। 

पुलिस ने बताया कि आरोपी 32 वर्षीय बी.कॉम स्नातक अशोक कुमार ने अपना शिकार चुनने से पहले जनकपुरी में तीन हाई-प्रोफाइल क्लीनिकों की रेकी की थी। उसके बाद वह नकाब पहनकर डॉक्टर अनिल के क्लीनिक में गया। वहां उसने डॉक्टर के सहायक के टेबल पर हरियाणा के गैंगस्टर मनोज बाबा के नाम पर जबरन वसूली के लिए एक पत्र रखकर वहां से चला गया। 

पुलिस ने कहा कि यह मामला तब सामने आया जब डॉ. अनिल ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि उन्हें एक नकाबपोश व्यक्ति से पत्र मिला है, जिसमें जबरन वसूली की मांग की गई है। ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी गई है। आरोपी के खिलाफ जनकपुरी थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई और बाद में इसे दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र के विशेष प्रकोष्ठ को स्थानांतरित कर दिया गया।

पुलिस के मुताबिक, 15 जून को एक मुखबिर ने बताया कि आरोपी की गतिविधि कथित तौर पर नजफगढ़ के जय विहार इलाके में देखी गई थी। इसके बाद जय विहार में चैथ पार्क के ब्लॉक जी के पास जाल बिछाया गया। आरोपी द्वारा कथित तौर पर इस्तेमाल की गई मोटरसाइकिल को देखने के बाद पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पुलिस ने बताया कि पत्र देते समय उसने जो कपड़े पहने थे, वे भी बरामद कर लिए गए।

पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि एक निजी फर्म का कर्मचारी होने की वजह से वह ज्यादा पैसा नहीं कमा पा रहा था। उसकी पत्नी एक फ्लैट खरीदने के लिए जोर दे रही थी। इसलिए उन्होंने जल्दी पैसा कमाने के लिए यह सब किया। उसने बताया कि 

विशेष सेल के डीसीपी मनोज सी ने बताया कि आरोपी 3 जून को डॉ. अनिल के क्लिनिक में पहुंचा। उसने अपनी मोटरसाइकिल कुछ दूरी पर खड़ी की और मास्क लगाकर क्लिनिक में प्रवेश किया। उसने जेल में बंद गैंगस्टर बाबा के नाम पर एक पीले लिफाफे में जबरन वसूली पत्र डॉक्टर के सहायक की मेज पर रखा और तुरंत वहां से चला गया।