ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRचुनाव से पहले बाहर आएंगे केजरीवाल? हाईकोर्ट से राउज एवेन्यू तक AAP नेता की आज डबल परीक्षा

चुनाव से पहले बाहर आएंगे केजरीवाल? हाईकोर्ट से राउज एवेन्यू तक AAP नेता की आज डबल परीक्षा

दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए आज हाईकोर्ट से लेकर राउज एवेन्यू कोर्ट तक दोहरी परीक्षा की घड़ी है।

चुनाव से पहले बाहर आएंगे केजरीवाल?  हाईकोर्ट से राउज एवेन्यू तक AAP नेता की आज डबल परीक्षा
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानMon, 22 Apr 2024 06:38 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए आज हाईकोर्ट से लेकर राउज एवेन्यू कोर्ट तक दोहरी परीक्षा की घड़ी है। दिल्ली हाईकोर्ट आज मुख्यमंत्री केजरीवाल की उस याचिका पर सुनवाई करेगा, जिसमें उन्होंने मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के संबंध में ईडी द्वारा उन्हें गिफ्तार किए जाने को चुनौती दी है।

हाईकोर्ट द्वारा दंडात्मक कार्रवाई से अंतरिम सुरक्षा देने से इनकार करने के बाद 21 मार्च को एजेंसी द्वारा गिरफ्तार किए गए केजरीवाल ने गिरफ्तारी, पूछताछ और जमानत देने के संबंध में संवैधानिक वैधता को चुनौती दी है।

याचिका जस्टिस सुरेश कुमार कैत और जस्टिस मनोज जैन की बेंच के समक्ष सुनवाई के लिए निर्धारित है। आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा जारी नौवें समन के मद्देनजर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिसमें उन्हें 21 मार्च को उसके सामने पेश होने के लिए कहा गया था।

डॉक्टर से सलाह पर भी फैसला आएगा : सीएम को प्रतिदिन 15 मिनट के लिए निजी डॉक्टर से सलाह लेने और इंसुलिन दिए जाने के आवेदन पर राउज एवेन्यू कोर्ट सोमवार को अपना फैसला सुनाएगा।

बता दें कि, इससे पहले 9 अप्रैल को दिल्ली हाईकोर्ट ने लोकसभा चुनाव से पहले केजरीवाल को झटका देते हुए ईडी द्वारा गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली उनकी याचिका खारिज कर दी थी। अदालत ने कहा था कि बार-बार समन भेजने के बावजूद केजरीवाल के ईडी के सामने पेश नहीं होने और जांच में शामिल होने से इनकार करने के बाद जांच एजेंसी पास कोई खास विकल्प नहीं बचा था। 

ये हैं आरोप

जांच एजेंसी ने आरोप लगाया है कि आरोपी कथित आबकारी नीति तैयार करने के लिए केजरीवाल के संपर्क में थे, जिसके परिणामस्वरूप 'आप' को रिश्वत के बदले में उन्हें अनुचित लाभ हुआ। याचिका में केजरीवाल ने कई मुद्दे उठाए हैं, जिसमें यह भी शामिल है कि क्या कोई राजनीतिक दल मनी लॉन्ड्रिंग रोधी कानून के तहत आता है। इसमें आरोप लगाया गया कि पीएमएलए के तहत मनमानी प्रक्रिया का इस्तेमाल आम चुनावों के लिए गैर स्तरीय खेल का मैदान बनाने के लिए किया जा रहा है।