ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनोएडा में रियल स्टेट कंपनियां क्यों हो रहीं मालामाल, किस तरह की फ्लैटों की बढ़ी डिमांड

नोएडा में रियल स्टेट कंपनियां क्यों हो रहीं मालामाल, किस तरह की फ्लैटों की बढ़ी डिमांड

बता दें कि संपत्ति परामर्श कंपनी जेएलएल की रिपोर्ट के अनुसार, नोएडा में पिछले साल 24,944 करोड़ रुपये के 14,822 फ्लैट बेचे गए। यह उछाल औसत अपार्टमेंट की कीमत में उल्लेखनीय वृद्धि से दिखता है

नोएडा में रियल स्टेट कंपनियां क्यों हो रहीं मालामाल, किस तरह की फ्लैटों की बढ़ी डिमांड
noida flats
Nishant Nandanभाषा,नई दिल्लीSun, 16 Jun 2024 07:41 PM
ऐप पर पढ़ें

कभी किफायती और मध्यम श्रेणी की संपत्तियों के लिए प्रसिद्ध नोएडा और ग्रेटर नोएडा पिछले पांच साल में प्रीमियम रियल एस्टेट के लिए आकर्षण का केंद्र बन गए हैं। यहां पहले 40-80 लाख रुपये के दायरे वाली संपत्तियों तक सीमित नई परियोजनाएं अब अक्सर एक करोड़ रुपये से अधिक की होती हैं। ये अक्सर उन्हीं क्षेत्रों में और पहले की परियोजनाओं से बची हुई जमीन पर विकसित की जा रही हैं।

संपत्ति परामर्श कंपनी जेएलएल की रिपोर्ट के अनुसार, नोएडा में पिछले साल 24,944 करोड़ रुपये के 14,822 फ्लैट बेचे गए। यह उछाल औसत अपार्टमेंट की कीमत में उल्लेखनीय वृद्धि से दिखता है, जो 2022 में 1.24 करोड़ रुपये से बढ़कर 2023 में 1.68 करोड़ रुपये हो गई। 3.5 करोड़ रुपये और उससे अधिक कीमत वाले अपार्टमेंट की 2023 में कुल बिक्री का 23 प्रतिशत हिस्सेदारी थी।

संबद्ध लोगों का मानना ​​है कि यह परिवर्तन कई कारणों से है। इनमें से प्रमुख हैं बुनियादी ढांचे का विकास, रुकी हुई परियोजनाओं का पूरा होना, तथा अनुकूल नीतिगत परिवर्तन। प्रमुख बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का विकास, समर्पित औद्योगिक क्षेत्र, डेटा सेंटर भूमि बैंक और सड़कों, रेलवे और मेट्रो लाइनों का एक व्यापक नेटवर्क शामिल है, जिनसे नोएडा और ग्रेटर नोएडा में कनेक्टिविटी और लॉजिस्टिक्स में काफी सुधार हुआ है।

एक्सपीरियन, एम3एम, गोदरेज, ऐस, काउंटी ग्रुप, मैक्स जैसे डेवलपर मध्य नोएडा में अल्ट्रा-लक्जरी अपार्टमेंट और हाई-एंड स्टूडियो अपार्टमेंट पेश कर रहे हैं। एक्सप्रेस, डैसनैक, आरजी जैसे समूहों ने 10,000 रुपये प्रति वर्ग फीट से शुरू होने वाली इकाइयां पेश की हैं, जिनमें तीन और चार कमरों वाले सीमित टॉवर हैं। मूल्य वृद्धि सबसे अधिक 7x (73, 74, 75, 76, 77, 78) और एक्सप्रेसवे सेक्टरों (सेक्टर 108, 142, 143, 150 और 152) में उल्लेखनीय रही है। उदाहरण के लिए, इन क्षेत्रों में तीन कमरों वाले अपार्टमेंट की कीमत 2019 में लगभग 5,800 रुपये प्रति वर्ग फुट से बढ़कर आज 10,000 रुपये प्रति वर्ग फुट हो गई है।