ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRपिंकी चौधरी अब हिस्ट्रीशीटर घोषित, हिंदू रक्षा दल चीफ पर कसा कानून का शिकंजा; गाजियाबाद पुलिस रखेगी नजर

पिंकी चौधरी अब हिस्ट्रीशीटर घोषित, हिंदू रक्षा दल चीफ पर कसा कानून का शिकंजा; गाजियाबाद पुलिस रखेगी नजर

अपने विवादित बयानों के लिए फेमस हिंदू रक्षा दल अध्यक्ष पिंकी चौधरी पर अब कानून का शिकंजा कस गया है। गाजियाबाद पुलिस ने गुंडा एक्ट लगाने के बाद अब पिंकी चौधरी की हिस्ट्रीशीट भी खोल दी है।

पिंकी चौधरी अब हिस्ट्रीशीटर घोषित, हिंदू रक्षा दल चीफ पर कसा कानून का शिकंजा; गाजियाबाद पुलिस रखेगी नजर
Praveen Sharmaगाजियाबाद। हिन्दुस्तानSun, 08 Oct 2023 12:19 PM
ऐप पर पढ़ें

Who is Pinky Chaudhary : अपने विवादित बयानों से अक्सर सुर्खियों में रहने वाले हिंदू रक्षा दल के अध्यक्ष पिंकी चौधरी पर अब कानून का शिकंजा कसता ही जा रहा है। गाजियाबाद पुलिस ने गुंडा एक्ट लगाने के बाद अब पिंकी चौधरी की हिस्ट्रीशीट भी खोल दी है। साहिबाबाद थाना पुलिस द्वारा खोली गई हिस्ट्रीशीट  संख्या-9ए है। हिस्ट्रीशीटर घोषित होने के कारण पुलिस अब अन्य अपराधियों की तरह पिंकी चौधरी की गतिविधियों पर भी नजर रखेगी।

2 अक्टूबर को हिंदू रक्षा दल के अध्यक्ष पिंकी चौधरी पर दो मुकदमे दर्ज हुए थे। पहला मुकदमा राजनगर एक्सटेंशन में ट्रैफिक पुलिस कर्मी से अभद्रता के संबंध में नंदग्राम पुलिस ने दर्ज किया था और दूसरा मुकदमा टीला मोड़ थाना पुलिस ने दर्ज किया था।

पिंकी चौधरी पर आरोप है कि उन्होंने हिंदू धर्म को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। इसके बाद साहिबाबाद पुलिस ने 3 अक्टूबर को राजेंद्र नगर सेक्टर-3 निवासी पिंकी चौधरी उर्फ भूपेंद्र चौधरी पर गुंडा एक्ट लगाया था। वहीं, पुलिस ने भड़काऊ बयानबाजी और गतिविधियों से सिरदर्द बनने वाले पिंकी चौधरी की हिस्ट्रीशीट खोलने का फैसला लिया था। इसी क्रम में पुलिस ने पिंकी की हिस्ट्रीशीटर खोल दी है।

कौन है पिंकी चौधरी

बता दें कि, हिंदू रक्षा दल के चीफ भूपेंद्र तोमर उर्फ पिंकी चौधरी का विवादों से पुराना नाता है। पिंकी चौधरी ने 2013 में हिंदू रक्षा दल नाम का संगठन बनाया था। पिंकी चौधरी अल्पसंख्यक विरोधी बयानों के लिए पहले भी चर्चा में आ चुके हैं। 2020 में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रों की पिटाई के बाद भी पिंकी ने वीडियो जारी कर इसकी जिम्मेदारी ली थी। गाजियाबाद में दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हमले की कोशिश में भी पिंकी चौधरी का नाम आ चुका है। 

दिल्ली में जंतर-मंतर पर 2021 में हुई हिंदू संगठनों की एक रैली के दौरान एक समुदाव विशेष के खिलाफ भड़काऊ भाषण और सांप्रदायिक नारेबाजी के बाद पिंकी चौधरी अचानक चर्चा में आ गए थे। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी, जिसके बाद पिंकी चौधरी अंडरग्राउंड हो गए थे। हालांकि, 31 अगस्त 2021 को उन्होंने हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद  कनॉट प्लेस थाने में सरेंडर कर दिया था। इस मामले में उन्हें जेल भी जाना पड़ा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें