ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRPOK से हथियार लेकर आतंकियों को करता था सप्लाई, कौन है सेना का रिटायर्ड जवान रियाज अहमद; दिल्ली से अरेस्ट

POK से हथियार लेकर आतंकियों को करता था सप्लाई, कौन है सेना का रिटायर्ड जवान रियाज अहमद; दिल्ली से अरेस्ट

दिल्ली पुलिस ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी रियाज अहमद को गिरफ्तार किया है। वह सेना का रिटायर्ड जवान है। उसका काम पीओके से घाटी में दहशतगर्दों को हथियार सप्लाई करना था।

POK से हथियार लेकर आतंकियों को करता था सप्लाई, कौन है सेना का रिटायर्ड जवान रियाज अहमद; दिल्ली से अरेस्ट
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 07 Feb 2024 05:35 AM
ऐप पर पढ़ें

रेलवे पुलिस द्वारा नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से रविवार को गिरफ्तार हुआ लश्कर का संदिग्ध आतंकी रियाज चार वर्षों से एलओसी से आतंकियों के लिए हथियारों की खेप लेने का काम कर रहा था। वह सेना में रहने के दौरान बॉर्डर पर करीब 20 साल कार्यरत रहा। इस दौरान वह पीओके में मौजूद लश्कर के आतंकियों के संपर्क में आया और उनके लिए हथियारों की तस्करी करने लगा। यह खुलासा दिल्ली पुलिस द्वारा की गई प्राथमिक पूछताछ में लश्कर के संदिग्ध आतंकी रियाज अहमद ने किया है। पुलिस को शक है कि वह भारतीय सेना से संबंधित जानकारी भी लीक कर रहा था।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपी रियाज अहमद परिवार सहित कुपवाड़ा में रहता है। वर्ष 2004 में वह सेना में भर्ती हुआ था। उसकी तैनाती एलओसी के पास थी। वहां रहने के दौरान कुछ आतंकियों ने उससे संपर्क किया और लश्कर-ए-तैयब्बा में शामिल कर लिया। उसे एलओसी पर पीओके से हथियार लेकर जम्मू कश्मीर में मौजूद आतंकियों को देने की जिम्मेदारी मिली थी। वर्ष 2019 से वह इस काम में जुटा हुआ था। अधिकारियों का मानना है कि इस काम के लिए उसे आतंकियों की तरफ से रुपये भी मिल रहे थे, लेकिन इसकी पुष्टि जम्मू कश्मीर पुलिस द्वारा पूछताछ के बाद ही हो सकेगी।

जबलपुर से दिल्ली आ गया था 

पूछताछ के दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि बीते जनवरी में उसे सेनानिवृत्त होना था। इसके चलते वह बीते 8 जनवरी को जबलपुर गया था, जहां उसकी बटालियन का मुख्यालय है। वहां से 31 जनवरी 2024 को वह सेवानिवृत्त हो गया था। इसके बाद उसे पता चला कि जम्मू कश्मीर पुलिस ने लश्कर के कुछ आतंकी पकड़े हैं। इनमें उसका भांजा भी शामिल हैं। इसके चलते वह जबलपुर से दिल्ली आ गया था। शनिवार की दोपहर वह निजामुद्दीन पहुंच गया था। उसके साथ अल्ताफ भी था जो सेना से सेनानिवृत्त है। उसके साथ ही वह दिल्ली के कई इलाकों में घूमता रहा।

उत्तर संपर्क क्रांति से जाना था जम्मू 

पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह दिल्ली से जम्मू जाने के लिए नई दिल्ली रेलवे स्टेशन आया था। वहां उसके लिए छिपने के कई ठिकाने हो सकते थे। वह रविवार को दिनभर रेलवे स्टेशन पर छिपकर रहने वाला था और रात होने पर उत्तर संपर्क क्रांति से सफर करने वाला था, लेकिन इससे पहले ही रेलवे स्टेशन से दिल्ली पुलिस ने उसे रविवार को पकड़ लिया।

ठिकाना तलाश रहा था

रियाज अहमद ने पूछताछ में बताया कि वह अपने साथी अल्ताफ के साथ महाकौशल एक्सप्रेस में आया था। दोनों जबलपुर से ट्रेन में शनिवार दोपहर हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पहुंचे। वहां से ऑटो लेकर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचे। रियाज अहमद छिपने के लिए नया ठिकाना तलाश रहा था। हाल ही में कुपवाड़ा से दबोचे गए संदिग्ध आतंकियों से पूछताछ में पता चला कि इनका एक साथी रियाज अहमद फरार चल रहा है। वह कुछ ही देर में नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचने वाला है। इस जानकारी पर टीम ने स्टेशन पर उसकी तलाश शुरू कर दी। रविवार सुबह वह भागने का प्रयास कर रहा था, तभी उसे पकड़ लिया गया।

मोबाइल नंबर मिलने के बाद पुलिस को सफलता मिली

जम्मू में हुई गिरफ्तारी के बाद रियाज का मोबाइल नंबर जम्मू कश्मीर पुलिस को मिल गया था। उन्होंने जब टेक्निकल सर्विलांस की मदद ली तो पाया कि वह दिल्ली में मौजूद है। रविवार को उसकी लोकेशन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास आ रही थी। इसलिए अधिकारियों ने रेलवे पुलिस से संपर्क किया। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के एसएचओ विश्वनाथ पासवान की टीम ने रियाज को पकड़ लिया।

ट्रांजिट रिमांड पर सौंपा

जम्मू कश्मीर पुलिस के अधिकारी मंगलवार को आरोपी रियाज को लेने के लिए दिल्ली पहुंचे। दिल्ली पुलिस ने दोपहर को आरोपी को तीस हजारी अदालत में पेश किया। वहां से अदालत ने आरोपी को तिहाड़ जेल भेज दिया। जम्मू कश्मीर पुलिस ने उसे ट्रांजिट रिमांड पर ले जाने के लिए आवेदन किया, जिसे अदालत ने मंजूर कर लिया। पूछताछ के लिए जम्मू पुलिस उसे साथ ले जाएगी।

साथी पूर्व में पकड़े गए

पुलिस पूछताछ में पता चला है कि आरोपी रियाज अहमद और उसका फरार साथी अलताफ भारतीय सेना में कार्यरत थे। जनवरी 2024 में दोनों सेना से सेवानिवृत्त हुए थे। पुलिस को शक है कि रियाज अहमद ने हथियारों की एक खेप खुर्शीद अहमद और गुलाम सरवर से ली है। यह दोनों ही आरोपी जम्मू और कश्मीर पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें