ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRPM मोदी और सीएम धामी कहां हैं, उत्तराखंड के टनल में फंसी जिंदगियों पर AAP ने पूछा

PM मोदी और सीएम धामी कहां हैं, उत्तराखंड के टनल में फंसी जिंदगियों पर AAP ने पूछा

AAP के आधिकारिक एक्स हैंडल पर सवाल उठाते हुए लिखा गया, '41 मासूम ज़िंदगियाँ उत्तरकाशी की एक टनल में कई दिनों से फँसी हुई हैं। देश के प्रधानमंत्री मोदी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री कहाँ हैं?'

PM मोदी और सीएम धामी कहां हैं, उत्तराखंड के टनल में फंसी जिंदगियों पर AAP ने पूछा
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 19 Nov 2023 01:32 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में 40 जिंदगियों को बचाने के लिए जंग जारी है। इस बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी घटनास्थल पर चल रहे राहत कार्यों का निरीक्षण करने के लिए पहुंचे। इस बीच दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने केंद्र और उत्तराखंड की सरकार पर हमला बोला है। आम आदमी पार्टी की तरफ से एक्स पर ट्वीट कर पीएम मोदी पर निशाना साधा है। आप के आधिकारिक एक्स हैंडल पर सवाल उठाते हुए लिखा गया, '41 मासूम ज़िंदगियाँ उत्तरकाशी की एक टनल में कई दिनों से फँसी हुई हैं। देश के प्रधानमंत्री मोदी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री कहाँ हैं?'

रेस्क्यू कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे नितिन गडकरी और सीएम के साथ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री एसएस संधू भी मौजूद थे। 40 मजदूरों को बचाने के लिए वहां चल रहे बचाव कार्य को लेकर सीएम धामी ने कहा, 'सुरंग के अंदर फंसे लोगों को बचाने के लिए हम हर संभव कोशिशों पर काम कर रहे हैं। सभी तरह के विेशेषज्ञ यहां काम कर रहे हैं।' सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि इस बचाव कार्य में लगी सभी एजेंसियों को किसी भी तरह की मदद देने के लिए सरकार तैयार है। सीएम ने कहा, 'प्रत्येक शख्स की जिंदगी प्रमुखता है। इसके लिए सरकार एजेंसी को सभी मदद पहुंचाने के लिए तैयार है। मैं भगवान से प्रार्थना करूंगा कि जल्द ही सबको बचाया जा सके। हर एक गुजरते दिन के साथ उनकी परेशानियां बढ़ती जा रही हैं।'

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, 'पिछले 7-8 दिनों से पीड़ितों को बचाने के लिए हर मुमकिन कोशिश की जा रही है। भारत सरकार औऱ उत्तराखंड सरकार इस बात को प्रमुखता दे रही है कि सभी को जल्द से जल्द इस सुरंग से निकाला जाए। जो अधिकारी यहां काम कर रहे हैं उनके साथ करीब 2 घंटे तक लंबी बैठक हुई है। हम 6 अन्य वैकल्पिक उपायों पर विचार कर रहे हैं। हम अलग-अलग एजेंसियों से मदद लेने पर भी विचार कर रहे हैं। PMO इस पर विशेष तौर से ध्यान दे रहा है। टनल एक्सपर्ट और बीआऱओ अधिकारियों को यहां बुलाया गया है। हमारी प्रथामिकता है कि उन्हें खाना, दवाई और ऑक्सीजन पहुंचाया जाए।'

इससे पहले शनिवार को प्रधानमंत्री कार्यालय के उप सचिव मंगेश गिडियाल भी हालात का जायजा लेने के लिए राहत और बचाव स्थल पर पहुंचे थे। इसके अलावा PMO के पूर्व सलाहकार ने भी उत्तरकाशी-यमुनोत्री के नजदीक निर्माणाधीन SilkOyara Tunnel के पास राहत कार्य का जायजा लेने के लिए पहुंचे थे।

स्थानीय प्रशासन ने कहा था कि टनल के अंदर सात दिनों से फंसे 40 वर्करों को बचाने के लिए ट्री-कटिंग एक्सपर्ट की भी मदद ली जाएगी। वन विभाग ने ट्री-कटिंग एक्सपर्ट आशिक हुसैन को टनल के पास बुलाया है। उन्होंने बताया कि टनल के ऊपरी हिस्सा के वर्टिकल तरीके से काट कर श्रमिकों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें