DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानें कैसे व्हाट्सएप चैट ने खोला दुष्कर्म के झूठे केस में फंसाने का राज

whatsapp

राहुल और रश्मि (दोनों बदला हुआ नाम) में पहले दोस्ती और फिर प्रेम हुआ। दोनों शादी करने का फैसला किया। इसके कुछ दिनों बाद विवाद होने पर युवती ने राहुल के खिलाफ शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने के आरोप में मुकदमा दर्ज करा दिया। मगर, व्हाट्सएप चैट से युवक को रेप के झूठे के केस में फंसाने का राज खुल गया।

जस्टिस हीमा कोहली व मनोज कुमार ओहरी की बैंच ने व्हाट्सएप चैट और फोन कॉल के रिकॉर्ड को अहम साक्ष्य मानते हुए निचली अदालत द्वारा युवक को बरी किए जाने के फैसले सही ठहराया है। बैंच ने अपने फैसले में कहा है कि व्हाट्सएप चैट और फोन कॉल रिकार्ड से साफ है कि याचिकाकर्ता रश्मि और आरोपी राहुल के बीच सहमति से शारीरिक संबंध बना था। इतना हीं नहीं, हाईकोर्ट ने यह भी कहा है कि तथ्यों से यह भी साफ है कि वह शादी करने को लेकर खुद असमंजस में थी।

बैंच ने निचली अदालत द्वारा युवक को दुष्कर्म और जान से मारने की धमकी देने के आरोपों से बरी किए जाने के फैसले को सही ठहराया। साथ ही, निचली अदालत के फैसले के खिलाफ कथित पीड़ित लड़की द्वारा दाखिल अपील को खारिज कर दिया।

निचली अदालत के फैसले के खिलाफ की थी अपील

रश्मि ने 2016 में राहुल के खिलाफ शादी करने का झांसा देकर दुष्कर्म करने और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में वसंत विहार थाना में मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में निचली अदालत ने वर्ष 2016 में ही राहुल को बरी कर दिया। अदालत ने बरी करते हुए कहा कि आरोपी द्वारा युवती को धमकाने का कोई साक्ष्य नहीं मिला। निचली अदालत के इस फैसले के खिलाफ लड़की ने हाईकोर्ट में अपील दाखिल कर युवक को दुष्कर्म करने के जुर्म में सजा देने की मांग की थी।.

चैट को साक्ष्य माना

युवती ने हाईकोर्ट में कहा कि व्हाट्सएप चैट को साक्ष्य नहीं माना जा सकता है। हाईकोर्ट ने उसकी दलीलों को सिरे से खारिज कर दिया। साथ ही, व्हाट्सएप चैट को महत्वपूर्ण साक्ष्य मानते निचली अदालत के फैसले को सही ठहराया। 

व्हाट्सएप चैट व कॉल रिकॉर्ड (ट्रांसक्रिप्ट) से यह पता चलता है कि कथित पीड़िता रश्मि ने युवक से कहा था कि उसकी बड़ी बहन की शादी होने के बाद ही वह उससे शादी करेगी। जहां तक युवक द्वारा धमकी दिए जाने का सवाल है तो तथ्यों से यह भी पता चलता है कि लड़की ने उसे झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी थी। -कोर्ट की टिप्पणी 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Whatsapp chat opened the secret of false rape case