ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRरिफंड चाहिए या फ्लैट, सभी खरीदार 5 मार्च तक बताएं, चिंटल ने दिया 2 विकल्प

रिफंड चाहिए या फ्लैट, सभी खरीदार 5 मार्च तक बताएं, चिंटल ने दिया 2 विकल्प

चिंटल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने शनिवार को सेक्टर-109 स्थित चिंटल पैराडाइसो के सभी नौ रिहायशी टावर के फ्लैट्स मालिकों को दो विकल्प दिए हैं। आइये जानते हैं कि आखिर क्या है पूरा मामला?

रिफंड चाहिए या फ्लैट, सभी खरीदार 5 मार्च तक बताएं, चिंटल ने दिया 2 विकल्प
Mohammad Azamलाइव हिंदुस्तान,गुरुग्रामSun, 04 Feb 2024 02:49 PM
ऐप पर पढ़ें

चिंटल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने शनिवार को सेक्टर-109 स्थित चिंटल पैराडाइसो के सभी नौ रिहायशी टावर के फ्लैट्स मालिकों को दो विकल्प दिए हैं। इसके तहत बिल्डर की तरफ से रिफंड और फ्लैट्स बनाकर देने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए फ्लैट मालिकों को पांच मार्च तक अपना जवाब देना होगा।

शनिवार दोपहर 12.47 पर रियल एस्टेट कंपनी ने डी, ई, एफ, जी और एच के फ्लैट्स मालिकों को ई-मेल भेजी। इसके मुताबिक पहले विकल्प के तहत 65 सौ रुपये प्रति वर्ग फीट के हिसाब से राशि रिफंड की जाएगी। स्टांप ड्यूटी और आंतरिक मूल्यांकन की राशि दी जाएगी। फ्लैट्स मालिकों को रियल एस्टेट कंपनी के साथ एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर करने होंगे। पूरी राशि मिलने के बाद रजिस्ट्री को रद्द करवाना होगा।

दूसरा विकल्प उन फ्लैट्स मालिकों को दिया है, जिन्होंने अब तक विकल्प एक को स्वीकार नहीं किया है। इसके तहत एक हजार रुपये प्रति वर्ग फीट राशि दोबारा फ्लैट्स के निर्माण के एवज में देनी होगी। 40 प्रतिशत शुरुआत में, 30 प्रतिशत ढांचा खड़ा होने के बाद, 20 प्रतिशत आक्युपेंसी सर्टिफिकेट मिलने तक और 10 प्रतिशत पजेशन देने के दौरान देनी होगी। निर्धारित समय पर राशि नहीं देने पर ब्याज देना होगा। 48 महीने के अंदर फ्लैट्स बनाकर पजेशन दे दिया जाएगा।

दोबारा निर्माण के दौरान कारपेट एरिया 5 प्रतिशत अधिक या कम हो सकता है। फ्लैट्स का डिजाइन बदल सकता है। फ्लैट्स मालिकों को फ्लैट चुनाव को लेकर प्राथमिकता दी जाएगी, जिसके एवज में अतिरिक्त राशि नहीं ली जाएगी। निर्माण शुरू होने से लेकर पजेशन तक किराया दिया जाएगा। इसके साथ-साथ विकल्प दो में एक शर्त रखी है कि रियल एस्टेट कंपनी की तरफ से नुकसान की भरपाई के लिए नगर एवं ग्राम आयोजन विभाग से एफएआर खरीदी जाएगी, जिसको लेकर फ्लैट्स मालिकों को एनओसी देनी होगी। फ्लैट्स मालिकों को पांच मार्च तक जवाब देना होगा।

आरडब्ल्यूए को पत्र लिखकर ऑफर दिया
रियल एस्टेट कंपनी ने दोपहर पौने तीन बजे आरडब्ल्यूए को पत्र लिखकर टावर नंबर ए, बी, सी और जे के फ्लैट्स मालिकों को उपरोक्त दोनों विकल्प में से एक का चयन करने का ऑफर दिया। इसमें कहा कि डी, ई, एफ, जी और एच को तोड़ने की प्रक्रिया जल्द शुरू कर दी जाएगी। रियल एस्टेट कंपनी एक साथ सभी रिहायशी टावर का दोबारा निर्माण करना चाहती है। आईआईटी रिपोर्ट के तहत टावर ए, बी और सी के दोबारा निर्माण या रिफंड का कोई दायित्व नहीं है। फिर भी फ्लैट्स मालिकों से उनकी राय जानने का फैसला लिया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें