ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनियमों की धज्जियां फिर भी दिल्ली में चलता रहा 'मौत का अस्पताल', MCD ने झाड़ा पल्ला

नियमों की धज्जियां फिर भी दिल्ली में चलता रहा 'मौत का अस्पताल', MCD ने झाड़ा पल्ला

पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार स्थित बेबी केयर न्यू बॉर्न अस्पताल में आग लगने से सात नवजात शिशुओं की मौत के मामले में जैसे-जैसे जांच हो रही है, हैरान करने वाली जानकारियां सामने आ रही हैं।

नियमों की धज्जियां फिर भी दिल्ली में चलता रहा 'मौत का अस्पताल', MCD ने झाड़ा पल्ला
Krishna Singhराहुल मानव,नई दिल्लीSun, 26 May 2024 08:32 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार में स्थित न्यू बोर्न बेबी केयर अस्पताल में आग लगने की घटना के बाद लोगों में रोष है। सात मासूमों की मौत के बाद स्थानीय लोगों और पीड़ित परिजनों ने सरकारी विभागों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि जिस इमारत में अस्पताल का संचालन हो रहा था, उसके सबसे नीचे वाले फ्लोर पर अवैध रूप से ऑक्सीजन सिलेंडर को भरने का काम किया जा रहा था। लोगों ने यह भी सवाल उठाए हैं कि दिल्ली में नियमित रूप से रिहायशी इलाकों में चलने वाले अस्पताल या नर्सिंग होम के संचालन या उसके लाइसेंस की जांच बिल्कुल भी नहीं की जाती है। इन आरोपों के बाद सभी विभाग पल्ला झाड़ रहे हैं।

बिल्डिंग प्लान को थी मंजूरी
इस संबंध में दिल्ली नगर निगम प्रशासन का कहना है कि यह इमारत रिहायशी इलाके में थी। इसकी भवन योजना (बिल्डिंग प्लान) को स्वीकृत किया गया था। दिल्ली मास्टर प्लान 2021 के नियम में दूसरी गतिविधियों के प्रावधान के तहत अस्पताल या नर्सिंग होम का संचालन किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त दिल्ली सरकार का स्वास्थ्य विभाग अस्पताल या नर्सिंग होम को लाइसेंस देता है। 

एमसीडी ने हाईकोर्ट के आदेश का दिया हवाला
दिल्ली हाईकोर्ट के एक मामले में निर्देश दिए गए हैं कि नगर निगम की ओर से नर्सिंग होम या अस्पताल गतिविधियों के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई न की जाए। इस कारण एमसीडी प्रशासन अस्पतालों और नर्सिंग होम के संचालन पर कोई बाधा नहीं डालता है। यदि निगम प्रशासन को दिल्ली सरकार की तरफ से अवैध रूप से अस्पताल के संचालन की जानकारी मिलती है। साथ ही अस्पताल और नर्सिंग होम के पास लाइसेंस मौजूद नहीं होता है। तब ऐसी परिस्थिति में निगम कार्रवाई करता है।

गैस सिलेंडर भरने की पुलिस करेगी जांच: एमसीडी
निगम प्रशासन ने कहा कि अस्पताल के नीचे के फ्लोर पर गैस सिलेंडर को भरने के मामले की जांच दिल्ली पुलिस करेगी। इसके अतिरिक्त दिल्ली अग्निशमन सेवा के अधिकारी ने कहा कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि ऑक्सीजन गैस सिलेंडर से धमाका हुआ था। अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति जरूरी होती है। हालांकि ऑक्सीजन सिलेंडर को भरने के संबंध में पुलिस तहकीकात करेगी। इस बीच स्थानीय लोगों ने विभागों को घेरते हुए कहा कि रिहायशी इलाकों में चल रहे अस्पताल, नर्सिंग होम एवं अन्य की लगातार जांच होनी चाहिए। विभागों की तरफ से लाइसेंस की भी जांच की जानी चाहिए।