ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRखतरे में हैं यूपी के छात्र, दिल्ली में बनवा दें छात्रावास; CM योगी आदित्यनाथ से किसने लगाई गुहार

खतरे में हैं यूपी के छात्र, दिल्ली में बनवा दें छात्रावास; CM योगी आदित्यनाथ से किसने लगाई गुहार

मुख्यमंत्री को सौंपे अपने ज्ञापन में उन्होंने लिखा, "कई छात्र आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि से आते हैं, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों से, और राजधानी शहर में सुरक्षित और स्वस्थ रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

खतरे में हैं यूपी के छात्र, दिल्ली में बनवा दें छात्रावास; CM योगी आदित्यनाथ से किसने लगाई गुहार
Nishant Nandanभाषा,नई दिल्लीTue, 18 Jun 2024 07:24 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) ने राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न संस्थानों में अध्ययन कर रहे उत्तर प्रदेश के छात्रों के लिए एक छात्रावास सुविधा बनाने के की मांग करते हुये प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक ज्ञापन सौंपा है। डूसू के संयुक्त सचिव सचिन बैंसला ने 'पीटीआई-भाषा' से बात करते हुए दावा किया कि मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि इस दिशा में जल्द ही काम किया जाएगा। बैंसला ने सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और उनसे 1,000 बिस्तरों वाले एक छात्रावास स्थापित करने का अनुरोध किया। छात्र संघ के युवा नेता ने दिल्ली में आवास ढूंढने में उत्तर प्रदेश के छात्रों के सामने आने वाली चुनौतियों पर चिंता जतायी।

मुख्यमंत्री को सौंपे अपने ज्ञापन में उन्होंने लिखा, "कई छात्र आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि से आते हैं, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों से, और राजधानी शहर में सुरक्षित और स्वस्थ रहने के लिए अच्छी जगह का खर्च उठाने के लिए संघर्ष करते हैं। इससे न सिर्फ उनका शैक्षणिक प्रदर्शन प्रभावित होता है, बल्कि उनकी सुरक्षा खतरे में पड़ जाती है।"

उन्होंने आगे लिखा, "छात्रों की इन सभी चुनौतियों को देखते हुए मैं आपसे दिल्ली में उत्तर प्रदेश के छात्रों के लिए विशेष रूप से एक छात्रावास स्थापित करने पर विचार करने का आग्रह करता हूं। लगभग 1,000 छात्रों के लिए आवास की सुविधा वाला ऐसा छात्रावास उन लोगों के लिए वरदान साबित होगा, जिन्हें वर्तमान में किफायती और सुरक्षित आवास खोजने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।" डूसू नेता ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उनकी बैठक में उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री जी दयाशंकर सिंह भी मौजूद थे।