ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRबिजली उपभोक्ताओं के लिए OTS स्कीम लाई सरकार, बकाए में मिलेगी 90% की छूट

बिजली उपभोक्ताओं के लिए OTS स्कीम लाई सरकार, बकाए में मिलेगी 90% की छूट

गाजियाबाद में रहने वाले बिजली उपभोक्ताओं के लिए गुड न्यूज है। ओटीएस योजना के तहत भुगतान करने वाले उपभोक्ताओं को पहले आओ ज्यादा राहत पाओ के आधार पर 90% लाभ मिलेगा। एक दिसंबर से पहले पंजीकरण कराना होगा।

बिजली उपभोक्ताओं के लिए OTS स्कीम लाई सरकार, बकाए में मिलेगी 90% की छूट
Sneha Baluniविजयभूषण त्यागी,गाजियाबादTue, 21 Nov 2023 06:52 AM
ऐप पर पढ़ें

वन टाइम सेटलमेंट (ओटीएस) योजना के तहत भुगतान करने वाले उपभोक्ताओं को पहले आओ ज्यादा राहत पाओ के आधार पर लाभ मिलेगा। एक दिसंबर से पहले पंजीकरण कराने पर विलंब अधिभार में 90 फीसदी तक की छूट मिलेगी। 15 दिसंबर के बाद से राहत 80 प्रतिशत हो जाएगी। बकाया भुगतान में राहत देने के लिए विद्युत निगम ने ओटीएस योजना शुरू की है। 

योजना के प्रचार के लिए विद्युत निगम सोशल मीडिया पर भी अभियान चला रहा है। पूरे प्रदेश के साथ आठ नवंबर से गाजियाबाद में भी विद्युत निगम की वन टाइम सेटलमेंट योजना लागू हो गई है। योजना के लक्ष्य पुराने बकायदारों को भुगतान करने में राहत देना है। वन टाइम सेटलमेंट योजना को आठ नवंबर से 31 दिसंबर तक तीन चरण में लागू किया गया है।

योजना के अंतर्गत पुराने बकायदारों को एकमुश्त भुगतान करने पर सरचार्ज में सौ प्रतिशत की छूट दी जा रही है। साथ ही उपभोक्ताओं को उनके बकाये पर किश्तों में भुगतान की सुविधा का विकल्प भी दिया गया है। योजना के अन्तर्गत विद्युत चोरी के प्रकरणों में सम्मिलित व्यक्तियों को एकमुश्त भुगतान या किश्तों के माध्यम से अपने जुर्माने की राशि के निस्तारण पर छूट का अवसर प्रदान किया गया है। 

योजना के तहत भुगतान करने के इच्छुक लोगों को अपना पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण की सुविधा ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से दी गई है। योजना के तहत होने वाले भुगतान को आठ नवंबर से 30 नवंबर, एक दिसंबर से 15 दिसंबर व 15 दिसंबर से 31 दिसंबर के तीन चरणों में बांटा गया है। प्रत्येक चरण में अलग-अलग प्रतिशत के आधार पर राहत दी जाएगी।

विद्युत निगम के मुख्य अभियंता नीरज स्वरूप ने कहा, 'ओटीएस योजना जिले में चल रही है। अधिकतर उपभोक्ता एकमुश्त भुगतान के स्थान पर किस्त का विकल्प चुन रहे हैं। भुगतान में देरी करने पर कम लाभ मिलेगा।'