ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR8 साल की लड़की को उठा ले गया उमर, CCTV खंगाल कैसे आरोपी तक पहुंची पुलिस

8 साल की लड़की को उठा ले गया उमर, CCTV खंगाल कैसे आरोपी तक पहुंची पुलिस

DCP अंकित चौहान ने कहा कि परिवार की शिकायत पर इस मामले में धारा 363 (किडनैपिंग) का केस दर्ज किया गया है। उन्होने कहा कि लड़की के घरवालों और रिश्तेदारों से भी गहनता से पूछताछ की गई थी।

8 साल की लड़की को उठा ले गया उमर, CCTV खंगाल कैसे आरोपी तक पहुंची पुलिस
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीWed, 08 May 2024 03:57 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में 8 साल की मासूम लड़की को अगवा करने के मामले में पुलिस ने एक शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। दक्षिणी दिल्ली से इस मासूम लड़की को अगवा किया गया था। पुलिस ने कहा कि आरोप की पहचान 28 साल के मोहम्मद उमर के तौर पर हुई है। उमर महरौली का रहने वाला है। डीसीपी (साउथ), अंकित चौहान ने कहा, 6 मई को दोपहर तीन बजे पीसीआर पर किडनैपिंग की जानकारी मिली थी। सूचना मिली थी कि 8 साल की एक मासूम लड़की को कोटला मुबारकपुर थानाक्षेत्र से अगवा किया गया है। इसके बाद पुलिस की टीम तुरंत मौके पर पहुंची। 

DCP ने कहा कि परिवार की शिकायत पर इस मामले में धारा 363 (किडनैपिंग) का केस दर्ज किया गया है। उन्होने कहा कि लड़की के घरवालों और रिश्तेदारों से भी गहनता से पूछताछ की गई थी। पुलिस की टीम सभी एंगल से जांच कर रही थी। सीसीटीवी की जांच के वक्त पुलिस को कुछ वर्चुअल सुराग मिले। पुलिस ने देखा कि एक संदिग्ध उस इलाके में घूम रहा है।  

बाबू पार्क, उदय चंद मार्ग, कोटा मुबारकपुर, गुरुद्वारा रोड, साउथ एक्सटेंशन-1, पिलांजी गांव और कुछ अन्य जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच में यह सामने आय़ा कि आरोपी साउथ एक्सेंशन-1 बस स्टॉप से आ रहा था। इसके बाद पुलिस ने आरोपी की पहचान के लिए डीटीसी बसों के और भी कैमरों की जांच की। इसके बाद अगवा की गई लड़की के बारे में विस्तृत जानकारी पुलिस के नेटवर्किंग सिस्टम ZIPNET पर लोड की गई।

पुलिस ने मंगलवार को अंधेरिया मोड़ के झुग्गी इलाकों से उमर को गिरफ्तार किया और फिर लड़की को भी रेस्क्यू कर लिया गया था। पूछताछ के दौरान उमर ने बताया कि वो कांच के छोटे-छोटे खिलौने बनाता है और कांच चुनने के लिए वो कोटला आया था। यहां उसने लड़की को खेलते देखा और फिर उसे किडनैप कर लिया। लड़की को उसके परिजनों को सौंप दिया गया है और उसे चिकित्सीय जांच के लिए भेजा गया है।