ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRकेजरीवाल से सहानुभूति वाला वोट कहां गया? करारी हार के बाद क्या बोले उदित राज

केजरीवाल से सहानुभूति वाला वोट कहां गया? करारी हार के बाद क्या बोले उदित राज

उत्तर-पश्चिमी दिल्ली सीट से करारी हार झेलने के बाद कांग्रेस नेता उदित राज ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए धांधली का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली-एमपी जैसे राज्यों में गड़बड़ी की गई है।

केजरीवाल से सहानुभूति वाला वोट कहां गया? करारी हार के बाद क्या बोले उदित राज
udit raj
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 05 Jun 2024 10:12 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर-पश्चिमी दिल्ली सीट से करारी हार झेलने के बाद कांग्रेस नेता उदित राज ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए धांधली का आरोप लगाया है। उन्होंने दावा किया है कि यूपी में तो भाजपा गड़बड़ी नहीं कर पाई, लेकिन बिहार, मध्य प्रदेश और दिल्ली जैसे राज्यों में धांधली हुई है। उन्होंने यह भी पूछा कि आम आदमी पार्टी और केजरीवाल की गिरफ्तारी से उपजी सहानुभूति वाला वोट कहां गया? 

भाजपा नेता योगेंद्र चंदोलिया ने उदित राज को 2.90 लाख वोटों के बड़े अंतर से हराया। मंगलवार को चुनावी नतीजों के बाद उदित राज पूरी तरह चुप्पी साधे रहे। बुधवार सुबह अपनी पहली प्रतिक्रिया में कांग्रेस नेता ने दावा किया कि चुनाव निष्पक्ष नहीं हुआ है। उदित राज का कहना है कि भाजपा उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान कहीं दिखी नहीं तो इतने वोट कहां से आ गए। वह इस बात को लेकर भी अचरज में हैं कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के गठबंधन का वोट कहां गया।  

यह भी पढ़ें: AAP-कांग्रेस की दोस्ती क्यों नहीं दिखा पाई असर, समझें कहां रह गई कसर   

उदित राज ने सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म एक्स पर लिखा, 'चुनाव निष्पक्ष नहीं हुआ है और मैं दावे के साथ कह सकता हूं। उत्तर पश्चिम दिल्ली लोक सभा से चुनाव लड़ा, BJP कहीं दिखी नहीं। कांग्रेस और आप दोनों का वोट कहां गया? अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी की सहानुभूति का वोट कहां गया? यूपी में जीत सुनिश्चित थी इसलिए धांधली नही कर सके। बिहार , एमपी, दिल्ली और अन्य स्थानों में धांधली हुई है।'

उदित राज को कितने वोट?
उत्तर पश्चिमी दिल्ली सीट की बात करें तो यहां भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर हुई। दिल्ली की एक मात्र सुरक्षित सीट पर भाजपा उम्मीदवार योगेंद्र चंदोलिया को 866483 वोट हासिल हुए। वहीं, उदित राज को 575634 वोट मिले। इस तरह उदित राज को 2.90 लाख से अधिक वोटों से हार का सामना करना पड़ा। इस सीट पर अन्य सभी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई।

आप गठबंधन से उदित राज को थी उम्मीद
उदित राज को पूरी उम्मीद थी कि आम आदमी पार्टी से गठबंधन के बलबूते वह इस बार जीत दर्ज करने में सफल रहेंगे। उनका मानना था कि वोटों का बंटवारा रुकने से भाजपा को आसानी से हरा देंगे। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी उदित राज के लिए वोट मांगा। इसके अलावा आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के कई नेताओं ने उनके लिए प्रचार किया।