ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRदिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली बड़ी कामयाबी, नीरज बवाना गैंग के दो शूटर गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली बड़ी कामयाबी, नीरज बवाना गैंग के दो शूटर गिरफ्तार

स्पेशल सेल ने बताया कि इन दोनों अपराधियों की गिरफ्तारी से कनाडा के भगोड़े अपराधी अर्शदीप सिंह के सिंडिकेट द्वारा एक व्यवसायी से 5 करोड़ रुपये की रंगदारी वसूलने का मामला सुलझा लिया गया है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली बड़ी कामयाबी, नीरज बवाना गैंग के दो शूटर गिरफ्तार
Praveen Sharmaनई दिल्ली | एएनआईTue, 13 Sep 2022 03:48 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना गैंग के दो अपराधियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। स्पेशल सेल ने बताया कि इन दोनों अपराधियों की गिरफ्तारी से कनाडा के भगोड़े अपराधी अर्शदीप सिंह के सिंडिकेट द्वारा एक व्यवसायी से 5 करोड़ रुपये की रंगदारी वसूलने का मामला सुलझा लिया गया है।

बता दें कि, पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की पंजाब के मानसा में गोलियों से भूनकर हत्या के बाद से दिल्ली पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों ने गैंगस्टरों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। मूसेवाला की हत्या में लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग का हाथ होने की बात सामने आई थी।

मूसेवाला हत्या मामले में एनआईए का कई ठिकानों पर मारे थे छापे

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मूसेवाला की हत्या से जुड़े संदिग्ध आतंकी गिरोहों की तलाश के सिलसिले में सोमवार को दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान समेत पांच राज्यों में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे थे। एनआईए सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में झड़ौदाकलां एवं अलीपुर तथा अन्य इलाकों में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई, काला जठेड़ी, टिल्लू ताजपुरिया और नीरज बवाना के ठिकानों पर छापे मारे गए गए।

हाल ही में मूसेवाला मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने लॉरेंस बिश्नोई-गोल्डी बराड़ गैंग के तीन शार्पशूटरों को गिरफ्तार किया है। पुलिस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह भी पता चला है कि ये तीनों आरोपी कुलदीप उर्फ कशिश और प्रियवर्त उर्फ फौजी के सीधे संपर्क में रहने के लिए कुछ ऐप का इस्तेमाल कर रहे थे। जांच के दौरान, यह पता चला कि वे गोल्डी बराड़ के नियमित संपर्क में भी थे, जिसने कथित तौर पर 29 मई को मूसेवाला की हत्या के लिए रसद सहायता, ठिकाने और हथियार प्रदान किए थे।  न