DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › रोहिणी कोर्ट शूटआउट की लाइव अपडेट ले रहा था तिहाड़ में बंद गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया
एनसीआर

रोहिणी कोर्ट शूटआउट की लाइव अपडेट ले रहा था तिहाड़ में बंद गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया

नई दिल्ली। लाइव हिन्दुस्तान टीमPublished By: Praveen Sharma
Mon, 27 Sep 2021 03:11 PM
रोहिणी कोर्ट शूटआउट की लाइव अपडेट ले रहा था तिहाड़ में बंद गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया

दिल्ली में रोहिणी कोर्ट रूम के अंदर शुक्रवार को हुई चौंकाने वाली फायरिंग से पहले तिहाड़ जेल में बंद एक अन्य गैंगस्टर फोन पर लाइव अपडेट ले रहा था। इस शूटआउट में कुख्यात गैंगस्टर जितेंद्र मान गोगी और वकीलों के वेश में आए दो हमलावर मारे गए थे। गोगी 30 से अधिक आपराधिक मामलों में वॉन्टेड था। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि गोगी की हत्या के पीछे लंबे समय से उसके प्रतिद्वंद्वी रहे टिल्लू ताजपुरिया का हाथ था।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक सूत्रों के अनुसार, टिल्लू हमलावरों- राहुल त्यागी और जगदीप जग्गा और अन्य शामिल लोगों के साथ लगातार संपर्क में था। उसके पास एक फोन था, जिससे पता चलता है कि अदालती गोलीबारी में एक और बड़ी सुरक्षा चूक हुई थी।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, टिल्लू गोगी को मारने के लिए भेजे गए दोनों हमलावरों से मिनट दर मिनट लाइव अपडेट ले रहा था। सूत्रों ने कहा कि वह उनसे यहां तक ​​पूछ रहा था कि वे रोहिणी कोर्ट से कितनी दूर हैं और कब पहुंचेंगे। वह दो और साथियों विनय और उमंग के भी संपर्क में था, जिन्हें अब गिरफ्तार कर लिया गया है। उसने कथित तौर पर दोनों को अदालत पहुंचने और लाइव अपडेट देने के लिए कहा था।

उमंग यादव ने हमलावरों को लाने के लिए दोस्त से उधार मांगी थी कार

टिल्लू कथित तौर पर उस वक्त घबरा गया जब उसे पता चला कि दोनों शूटर पहले से ही भारी पुलिस उपस्थिति के बीच में फंसे हुए थे और अपने प्लान को अंजाम दे रहे थे। सूत्रों ने कहा कि उसने महसूस किया कि उसके गुर्गों के लिए पुलिस से बचना और कॉल काटना मुश्किल होगा।

टिल्लू ने कथित तौर पर अपने दो अन्य लोगों को तुरंत बुलाया। सूत्रों ने बताया कि जब उन्होंने उसे बताया कि वे रोहिणी कोर्ट में पार्किंग स्थल पर पहुंच गए हैं, तो टिल्लू ने उन्हें भागने के लिए कहा।

अदालत परिसर में हथियारबंद लोगों के कोर्ट रूम तक प्रवेश की जांच सुरक्षा में एक बड़ी खामी के तौर पर देखी जा रही है। इसे भी एक बड़ी चूक माना जा सकता है कि एक गैंग के सरगना ने एशिया की सबसे बड़ी उच्च सुरक्षा वाली तिहाड़ जेल के अंदर फोन का उपयोग करके एक हत्या और उसकी निगरानी की योजना बनाई, लेकिन पुलिस को पता तक नहीं चला।

सूत्र बताते हैं कि अगर घटना या उसकी योजना के दौरान किसी भी समय गैंगस्टर का फोन तलाश कर जब्त कर लिया जाता, तो हत्याओं को रोका जा सकता था।

गोगी और टिल्लू जो कॉलेज छोड़ने से पहले गहरे दोस्त थे और फिरौती का रैकेट चलाते थे। पिछले कुछ दशकों में इन दोनों प्रतिद्वंद्वियों के बीच झगड़े में कई लोगों की जान जा चुकी है। 

संबंधित खबरें