ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRतिहाड़ प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को जेल में नहीं दी पति से मिलने की अनुमति, AAP का दावा

तिहाड़ प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को जेल में नहीं दी पति से मिलने की अनुमति, AAP का दावा

आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को दावा किया कि तिहाड़ जेल प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को उनके पति अरविंद केजरीवाल से 29 अप्रैल को मिलने की अनुमति नहीं दी है। आप ने क्या बातें कही जानें...

तिहाड़ प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को जेल में नहीं दी पति से मिलने की अनुमति, AAP का दावा
Krishna Singhभाषा,नई दिल्लीSun, 28 Apr 2024 11:46 PM
ऐप पर पढ़ें

तिहाड़ जेल प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को उनके पति अरविंद केजरीवाल से 29 अप्रैल को मिलने की अनुमति नहीं दी है। आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को यह दावा किया। हालांकि जेल प्रशासन की ओर से इस मसले पर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। AAP ने एक्स पर लिखा- सुनीता केजरीवाल सोमवार को अरविंद केजरीवाल मिलने वाली थीं लेकिन तिहाड़ प्रशासन ने अनुमति नहीं दी। जेल प्रशासन ने इसकी वजह नहीं बताई है। 

जेल नियमावली के मुताबिक, एक समय पर दो व्यक्ति कैदी से मिल सकते हैं। यही नहीं हफ्ते में अधिकतम चार लोग ही कैदी से मिल सकते हैं।  AAP ने एक्स पर लिखा- तिहाड़ जेल प्रशासन ने मोदी सरकार के इशारे पर सुनीता केजरीवाल की उनके पति अरविंद केजरीवाल से होने वाली मुलाकात रद्द कर दी। मोदी सरकार अमानवीयता की सारी हदें पार कर रही है। एक निर्वाचित सीएम के साथ आतंकवादियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है।

AAP ने आगे कहा- मोदी सरकार बताये कि वह किस वजह से सुनीता केजरीवाल को अरविंद केजरीवाल से मिलने नहीं दे रही है? बता दें कि दिल्ली की कैबिनेट मंत्री आतिशी का सोमवार को अरविंद केजरीवाल से मिलने का कार्यक्रम है। यही नहीं पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी मंगलवार को दिल्ली के सीएम से मिलेंगे। भगवंत मान की तिहाड़ जेल में केजरीवाल से यह दूसरी मुलाकात होगी।

मालूम हो कि अरविंद केजरीवाल को दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। वह सात मई तक न्यायिक हिरासत में हैं। दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने रविवार को प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाया कि कथित शराब घोटाले में सीबीआई और ईडी ने उन बयानों को कोर्ट के सामने रखा जो दबाव बनाकर लिए गए। मुख्यमंत्री ने अपना पक्ष हलफनामे के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय के सामने रखा है।