ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसर्जन बनकर टेक्नीशियन कर रहा था सर्जरी, ऑपरेशन में कई मरीजों की मौत; फर्जी सर्जन और तीन डॉक्टर गिरफ्तार

सर्जन बनकर टेक्नीशियन कर रहा था सर्जरी, ऑपरेशन में कई मरीजों की मौत; फर्जी सर्जन और तीन डॉक्टर गिरफ्तार

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश से पुलिस ने फर्जी सर्जन सहित तीन डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। टेक्नीशियन फर्जी डिग्री के आधार पर सर्जन बन मेडिकल सेंटर में सर्जरी कर रहा था। कई शिकायतें मिलने पर एक्शन हुआ।

सर्जन बनकर टेक्नीशियन कर रहा था सर्जरी, ऑपरेशन में कई मरीजों की मौत; फर्जी सर्जन और तीन डॉक्टर गिरफ्तार
Sneha Baluniराजन शर्मा,नई दिल्लीWed, 15 Nov 2023 06:56 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश पार्ट-1 स्थित एक मेडिकल सेंटर से फर्जी डिग्री के साथ सर्जन और तीन डॉक्टरों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि एक डॉक्टर मेडिकल सेंटर में वरिष्ठ सर्जन बनकर काम कर रहा था और अब तक कई सर्जरी कर चुका है। पुलिस को आरोपी महेंद्र के खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रही थी। 

करीब एक हफ्ते पहले हुई एक मरीज की मौत के बाद मेडिकल सेंटर में परिजनों ने हंगामा किया था, जिसके बाद मामला सामने आया। पुलिस ने फर्जी सर्जन के अलावा मेडिकल सेंटर के संचालक और दो अन्य डॉक्टरों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, मेडिकल सेंटर के खिलाफ पहले भी ऐसी शिकायतें मिली हैं। हर शिकायत में मृतक मरीज की सर्जरी की गई थी। 

पुलिस ने जांच के बाद महेंद्र समेत मेडिकल सेंटर के संचालक डॉ. नीरज अग्रवाल, डॉ. पूजा अग्रवाल और डॉ. जयप्रीत को दबोच लिया। पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है। जिला पुलिस उपायुक्त चंदन चौधरी ने बताया कि डिग्रियों की जांच की जा रही है। इन लोगों ने कई ऑपरेशन किए हैं जिसमें लोगों की जान भी गई है।

फर्जी डिग्री लेकर तकनीशियन से डॉक्टर बना

पुलिस के अनुसार, महेंद्र दिल्ली के एक बड़े अस्पताल में कार्यरत वरिष्ठ डॉक्टर के पास तकनीशियन का काम करता था। जहां उसने डॉक्टर को सर्जरी करते देखकर काम सीखा। इसके बाद उसने फर्जी डिग्री तैयार की और मेडिकल सेंटर में काम करने लगा। मेडिकल सेंटर प्रबंधन महेंद्र को कॉल कर सर्जरी के लिए बुलाते थे। पुलिस जांच कर रही है कि उसने फर्जी डिग्री कहां से बनवाई और कहां-कहां लोगों का इलाज कर रहा था।

2022 के मामले में भी हुई थी लापरवाही 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि 2022 में एक महिला को प्रसव पीड़ा अस्पताल में भर्ती किया गया था। डॉ. महेन्द्र को अस्पताल में ऑन कॉल सर्जरी के लिए बुलाया था। परिजनों ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया था कि महिला का प्रसव बिना सर्जरी के ही हो गया था। लेकिन डॉक्टर ने प्रसव के बाद उसकी सर्जरी की जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले की जांच की और उसके बाद अब मामले में कार्रवाई की है।

ऑन कॉल आता था महेन्द्र

पुलिस अधिकारी ने बताया कि महेन्द्र दिल्ली के एक बड़े अस्पताल में कार्यरत वरिष्ठ डॉक्टर के पास टेक्निशियन का काम करता था। जहां उसने डॉक्टर को सर्जरी करते हुए देखकर काम सीखा। जिसके बाद उसने फर्जी एमबीबीएस की डिग्री तैयार की और मेडिकल सेंटर में काम करने लगा। मेडिकल सेंटर प्रबंधन महेन्द्र को ऑन कॉल सर्जरी करने के लिए बुलाते थे। पुलिस अभी यह भी जांच कर रही है कि महेन्द्र ने फर्जी डिग्री कहां से बनवाई और यह कहां कहां इस डिग्री की मदद से लोगों का इलाज कर रहा था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें