ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRआज सूरजकुंड मेले का उद्घाटन करेंगी राष्ट्रपति मुर्मु, नॉर्थ-ईस्ट की विरासत के होंगे दीदार; क्या-क्या होगा खास

आज सूरजकुंड मेले का उद्घाटन करेंगी राष्ट्रपति मुर्मु, नॉर्थ-ईस्ट की विरासत के होंगे दीदार; क्या-क्या होगा खास

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला-2024 का शुभारंभ करेंगी। मेले में करीब 46 देशों के शिल्पकार और लोककलाकर अपनी प्रतिभा दिखाएंगे। 80 लोक कलाकार भी आएंगे।

आज सूरजकुंड मेले का उद्घाटन करेंगी राष्ट्रपति मुर्मु, नॉर्थ-ईस्ट की विरासत के होंगे दीदार; क्या-क्या होगा खास
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,फरीदाबादFri, 02 Feb 2024 07:29 AM
ऐप पर पढ़ें

अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला-2024 का शुभारंभ शुक्रवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु करेंगी। मेला परिसर भारतीय लोककला और परंपराओं की बहुरंगी छटा बिखेरने को तैयार हो चुका है। मेला परिसर ...देखो अपना देश, ..एक भारत-श्रेष्ठ भारत और वसुधैव कुटुम्बकम-जैसी भावना से ओतप्रोत रहेगा। परिसर में चौपाल पर दोपहर बाद आयोजित होने वाले उद्घाटन समारोह में राष्ट्रपति के अलावा राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, पर्यटन मंत्री कंवरपाल, परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा समेत स्थानीय विधायक और आमंत्रित जनप्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे। 

मेला प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एमडी सिन्हा ने बताया कि दो से 18 फरवरी तक आयोजित होने वाले इस मेले में इस बार थीम स्टेट गुजरात और भागीदार देश तंजानिया है। वहीं सांस्कृतिक भागीदारी पूर्वोत्तर राज्यों की रहेगी। मेला परिसर गुजरात की लोककलाओं से सराबोर है और विदेशी कॉर्नर में पर्यटकों को तंजानिया की हस्तशिल्प से रूबरू होंगे। मेले में 46 देश भाग ले रहे हैं।

पूर्वोत्तर राज्यों की सैकड़ों साल पुरानी विरासत के दीदार होंगे

पूर्वोत्तर राज्यों आसाम, अरुणाचल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम और त्रिपुरा के राज्यों की एक हजार साल पुरानी विरासत के दीदार अष्टलक्ष्मी आभा के साथ होंगे। इन राज्यों की लोककलाएं, हस्तशिल्प कलाएं, व्यंजन और प्रदर्शनी एक जोन में दिखाई देगी। चौपाल पर कलाकारों का धमाल होगा। करीब 108 शिल्पकार और 80 लोक कलाकार आएंगे।

दलेर मेहंदी समां बांधेंगे

चौपाल पर पंजाब का भांगड़ा, आसाम का बिहू, बरसाना की होली, हिमाचल का जमकड़ा, हाथ की चक्की के अलावा मैथिली ठाकुर का भक्ति संगीत पद्मश्री उस्ताद अहमद हुसैन का सूफी संगीत, गीता राबड़ी का शास्त्रीय गुजराती लोकसंगीत, पूर्वोत्तर राज्यो का बैंड, अंतरराष्ट्रीय फ्यूजन, गायक कैलाश खेर, दलेर मेहंदी का पॉप प्रदर्शन के अलावा गुजरात के लोकलाकार अपनी प्रस्तुति से लोगों को मंत्रमुग्ध रखेंगे।

46 देशों के शिल्पकार और लोक कलाकर प्रतिभा दिखाएंगे

मेले में करीब 46 देशों के शिल्पकार और लोककलाकर अपनी प्रतिभा दिखाएंगे। तंजानिया, बोत्सवाना, काबो, वर्डे, कोमोरोस, इस्वातिनी, इथियोपिया, गाम्बिया, घाना, गिनी, बिसाऊ, केन्या, मेडागास्कर, मलावी, माली, मोजाम्बिक, नामीबिया, अल्जीनिया, आर्मेनिया, बांगलादेश, बेलारूस, कांगो, डोमिनिकन, मिस्र, अफगानिस्तान, नेपाल, रूस, श्रीलंका आदि देश शिरकत करेंगे

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें