यहां रामलीला में 119 साल से रावण का पुतला बना रहा ये मुस्लिम परिवार - Sullamal Ramlila mein 119 saal se Ravan ka putla bana raha hai muslim parivar DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यहां रामलीला में 119 साल से रावण का पुतला बना रहा ये मुस्लिम परिवार

घंटाघर स्थित रामलीला मैदान में होने वाली सुल्लामल समिति की रामलीला में 119 साल से मुस्लिम परिवार रावण का पुतला बनाता आ रहा है। हर साल एक ही परिवार की पीढ़ी दर पीढ़ी पुतले बनाती आ रही है। रामलीला मैदान में तीनों पुतले बनाने का काम चल रहा है। 22 सितंबर को दूत रावण राज का ढिंढोरा पीटेगा और आठ अक्टूबर को रावण दहन हो जाएगा।

सुल्लामल की रामलीला शहर की सबसे पुरानी रामलीला मानी जाती है जिसमें शुरुआत से ही एक मुस्लिम परिवार रावण का पुतला बनाता आ रहा है। समिति के अध्यक्ष वीरेंद्र कुमार ने बताया कि 119 साल से सुल्लामल समिति की ओर से रामलीला हो रही है। तभी से मुस्लिम परिवार रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण का पुतला बनाता है।

पुतला बना रहे मोहम्मद आजाद ने बताया कि उनके परिवार की लगभग पांच पीढ़िया अब तक रावण का पुतला बना चुकी हैं। पहले उनके पुरखे पुतले बनाते थे तो बचपन में वे भी उनके साथ आते थे। उससे पहले उनके पिता भी दादा के साथ पुतले बनाते थे। आगे भी वे इस काम को करते रहना चाहते हैं। उनका कहना है कि पुतला बनाने का काम चल रहा है। रावण दहन से दो-चार दिन पहले ही काम पूरा हो जाएगा। सुल्लामल रामलीला समिति की ओर से शहर में रावण राज्य की घोषणा करने के लिए 22 सितंबर को दूत निकलेगा। जो शहर में ढिंढोरा पीटेगा कि अब रावण राज्य शुरू हो गया है। इसके बाद 23 सितंबर को गणेश आरती और पूजा के बाद रामलीला मंचन शुरू हो जाएगा। रामलीला के दौरान हर रोज ठाकुरद्वारा मंदिर से स्वरूप धारण कर रामलीला कलाकार डोले से निकलकर घंटाघर रामलीला मैदान पहुंचेंगे। आठ अक्तूबर को रावण दहन हो जाएगा।

140 फीट लंबे और 25 फीट चौड़ा मंच बनाया : रामलीला मंच भी इस साल 50 फीट बढ़ाया गया है। पहले कुल 90 फीट चौड़े मंच पर रामलीला का मंचन होता था। अब मंच को 25-25 फीट दोनों ओर बढ़ा दिया है। इससे मंच की लंबाई 140 फीट और चौड़ाई 25 फीट हो गई है।

इस बार 75 फीट होगी पुतले की उंचाई

रामलीला मैदान में पुतला बनाने का काम कर रहे मोहम्मद आजाद ने बताया कि इस साल रावण का पुतला 75 फीट ऊंचा होगा। वहीं कुंभकरण का 70 फीट का और मेघनाद का पुतला 66 फीट का होगा। मोहम्मद आजाद के बड़े भाई अनवार ने बताया कि पूरे परिवार के दस लोगों को तीनों पुतले बनाने में लगभग एक माह का समय पूरा हो जाएगा। काम पूरा होने तक पूरा परिवार यहीं रहता है। उनका कहना है कि रावण का पुतला हर साल जलता है, लेकिन समाज में असली रावण आज भी जिंदा घूम रहे हैं। रावण की फिर भी अपनी कुछ मर्यादाएं थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sullamal Ramlila mein 119 saal se Ravan ka putla bana raha hai muslim parivar