ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRतपती सड़कों पर ग्राहकों को तरसे रेहड़ी-पटरी वाले, घर खर्च चलाना मुश्किल; दिल्ली के स्ट्रीट वेंडर्स ने परेशानी की बयां

तपती सड़कों पर ग्राहकों को तरसे रेहड़ी-पटरी वाले, घर खर्च चलाना मुश्किल; दिल्ली के स्ट्रीट वेंडर्स ने परेशानी की बयां

दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का असर कारोबार पर दिखना शुरू हो गया है। र्मी के कारण ग्राहकों की संख्या में भारी गिरावट हुई है, जिससे आय में भी कमी आई है। कमाई आधी होने से घर खर्च चलाना मुश्किल हो गया है।

तपती सड़कों पर ग्राहकों को तरसे रेहड़ी-पटरी वाले, घर खर्च चलाना मुश्किल; दिल्ली के स्ट्रीट वेंडर्स ने परेशानी की बयां
delhi street vendors
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 07:46 AM
ऐप पर पढ़ें

भीषण गर्मी के बीच लोगों का आवागमन प्रभावित हो रहा है, जिसका असर कारोबार के सभी क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। इसका सबसे ज्यादा असर रेहड़ी-पटरी लगाने वाले लोगों के जीवन पर पड़ रहा है। गर्मी के कारण ग्राहकों की संख्या में भारी गिरावट हुई है, जिससे आय में भी कमी आई है। तेज धूप से बचने के लिए उनके पास कोई इंतजाम भी नहीं है। मंगलवार को ‘हिन्दुस्तान’ टीम ने दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में स्ट्रीट वेंडरों से बात की तो उन्होंने अपनी परेशानी को बयां किया...

सिर्फ शाम के समय चल रहा थोड़ा काम

बीते चार साल से कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन के पास ठेला लगाने वाले मुनीश बताते हैं कि वह बर्गर, टिक्की और गोलगप्पे बेचते हैं। यहां पर हमेशा काम चलता रहता था, लेकिन गर्मी के चलते बिक्री में कमी आई है। अब केवल शाम के समय ही लोग थोड़ा बहुत खाने आते हैं। शाम के वक्त भी जितने लोग मार्च के महीने में आ रहे थे, उसके मुकाबले करीब 50 प्रतिशत से कम हैं। गर्मी के चलते सामान खराब होने का खतरा कहीं ज्यादा रहता है। इसलिए थोड़ा बनाकर लाते हैं, लेकिन गर्मी से बचाने के लिए उसमें भी करीब 100 रुपये का बर्फ खर्च हो जाता है।

सब्जी की बिक्री 20 फीसदी घटी

शाहदरा के वेस्ट गोरखपार्क इलाके में रेहड़ी पर सब्जी बेचने वाले महेश कुमार का 20 फीसदी तक काम प्रभावित हो गया है। गर्मी के चलते ग्राहक सब्जी खरीदने के लिए पहले की तरह नहीं आ रहे हैं। दिन में दस घंटे रेहड़ी पर महेश कुमार सब्जी की बिक्री करते हैं। इसमें सुबह-शाम दो-दो घंटे गलियों में घूमकर और बाकी घटों में अपने निर्धारित ठीये पर सब्जी बेचते हैं। महेश ने बताया कि गर्मी के चलते अब पहले जैसा काम नहीं है। गलियों में भी ज्यादा फेरे नहीं लगा पा रहा हूं। लू से खुद को भी बचाना जरूरी है। ठीये पर शाम सात बजे के बाद ही खरीदार सब्जी खरीदने के लिए आते हैं। गर्मी की वजह से सब्जी भी जल्दी खराब हो जाती है। उसका नुकसान भी उठाना पड़ता है। पहले की तुलना में सब्जी की बिक्री 20 फीसदी तक घट गई है।

गर्मी के कारण एक दिन में सड़ रहे फल

शालीमार बाग में ठेला लगाने वाले रामजीत कहते हैं कि आज ही बेचने के लिए मंडी से पांच हजार रुपये के फल लेकर आया हूं, लेकिन इनकी गारंटी नहीं है कि बिकेंगे या नहीं। उन्होंने बताया कि गर्मी के चलते ग्राहक बहुत कम है। कई बार घंटों तक खड़े रहते हैं, लेकिन कोई ग्राहक नहीं आता है। शाम के वक्त थोड़ा बहुत कारोबार होता है। पहले एक दिन में लगभग 80 फीसदी फल बिक जाते थे, जबकि अब मंडी से लाए गए 40-50 फीसदी फल बिक पाते हैं। गर्मी होने के कारण एक दिन में ही फल खराब भी होने लगते हैं, जिससे नुकसान और बढ़ जाता है। बीते दो महीनों से इसी समस्या से जूझ रहे हैं। दूसरी ओर रोहित कुमार और बुधई ने कहा कि गर्मी से बचने के लिए हमारे पास भी कोई ठोस इंतजाम नहीं है। इससे लू लगने का खतरा रहता है।

कमाई आधी होने से घर खर्च चलाना मुश्किल

प्रतापगढ़ से दिल्ली में आकर चाय की रेहड़ी लगाने वाले सूरज यादव मौसम की बेरहमी से परेशान हैं। उन्होंने बताया कि गर्मी के कारण दुकानदारी पूरी तरह से कम हो गई है। अब तो घर का खर्च चलाना भी मुश्किल हो गया है। सूरज वसंतकुंज सेंट्रल मार्केट में चाय की रेहड़ी लगाते हैं, जहां समोसे पकौड़े आदि बेचते हैं। उनका कहना है कि वह पहले महीने में 15 हजार रुपये से भी अधिक की बचत कर लेते थे, लेकिन इस समय गर्मी के चलते कमाई पांच हजार से सात हजार ही रह गई है। ऐसे में वह अपने घर भी कुछ नहीं भेज पाते हैं।

कोई रुकने के लिए तैयार नहीं

आईएसबीटी कश्मीरी गेट पर मोबाइल कवर बेचने का काम करने वाले उपेंद्र मंडल कहते हैं कि गर्मी के चलते अब ग्राहक रुकने को तैयार नहीं है। कहने को यह जगह सबसे अधिक भीड़ वाली है। हर रोज लाखों लोग यहां पर आते हैं, लेकिन भीषण गर्मी के बीच स्थिति ऐसी है कि ग्राहक रुकते ही नहीं हैं। गर्मी से बचने के लिए ठेले के ऊपर बड़ा छाता भी लगा रखा है। इसके बाद भी कोई ग्राहक आने को तैयार नहीं है। अप्रैल के बाद से कारोबार में गिरावट आई है।