ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRनीरज चोपड़ा पर हरियाणा सरकार मेहरबान, खट्टर ने किया पैतृक गांव में स्टेडियम बनाने का ऐलान

नीरज चोपड़ा पर हरियाणा सरकार मेहरबान, खट्टर ने किया पैतृक गांव में स्टेडियम बनाने का ऐलान

सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हरियाणा एक स्पोर्ट्स हब बन गया है और राज्य के खिलाड़ियों ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के खेल आयोजनों में ख्याति अर्जित की है।

नीरज चोपड़ा पर हरियाणा सरकार मेहरबान, खट्टर ने किया पैतृक गांव में स्टेडियम बनाने का ऐलान
Praveen Sharmaपानीपत। पीटीआईMon, 02 May 2022 11:23 AM
ऐप पर पढ़ें

ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) पर हरियाणा सरकार मेहरबान है। बड़े सम्मान और करोड़ों रुपयों के इनाम देने के बाद अब सरकार ने नीरज के गांव में ्स्टेडियम बनाने का ऐलान किया है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने रविवार को घोषणा की कि ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा के पैतृक गांव पानीपत में स्टेडियम बनाया जाएगा। खट्टर ने कहा कि 10 करोड़ रुपये की लागत से स्टेडियम बनाया जाएगा। भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा का पैतृक गांव पानीपत में है।

पानीपत में सहकारी चीनी मिल का उद्घाटन करने के बाद यह घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा से ताल्लुक रखने वाले नीरज चोपड़ा ने पिछले साल ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतकर देश और राज्य को गौरवान्वित किया है। पिछले साल चोपड़ा ओलंपिक ट्रैक एंड फील्ड में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने थे।

सीएम खट्टर ने कहा कि हरियाणा एक स्पोर्ट्स हब बन गया है और राज्य के खिलाड़ियों ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के खेल आयोजनों में ख्याति अर्जित की है। उन्होंने कहा कि हरियाणा भी अपने खिलाड़ियों को सबसे ज्यादा इनामी राशि दे रहा है।

खट्टर ने यह भी कहा कि खेलो इंडिया यूथ गेम्स-2021, जिसे कोविड​​​-19 महामारी के कारण कई बार स्थगित करना पड़ा, राज्य में 4 जून से 13 जून तक आयोजित किया जाएगा।

चीनी मिल का उद्घाटन करने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए खट्टर ने कहा कि हरियाणा की सबसे बड़ी चीनी मिल को चालू कर दिया गया है और किसानों को गन्ने को पड़ोसी राज्यों में नहीं ले जाना पड़ेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक किसान की भलाई सुनिश्चित करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 14 फसलों की खरीद करने वाला हरियाणा एकमात्र राज्य है और देश में गन्ने की उच्चतम खरीद दर का भुगतान कर रहा है।