ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRपत्रकार सौम्या विश्वनाथन हत्याकांड में दोषियों की सजा पर सुनवाई टली, क्या वजह, कब ऐलान?

पत्रकार सौम्या विश्वनाथन हत्याकांड में दोषियों की सजा पर सुनवाई टली, क्या वजह, कब ऐलान?

दिल्ली की साकेत अदालत ने टीवी पत्रकार सौम्या विश्वनाथन की हत्या के मामले में पांच दोषियों की सजा को लेकर होने वाली सुनवाई टाल दी है। इसकी क्या वजह रही, कब होगा सजा का ऐलान, इस रिपोर्ट में जानें...

पत्रकार सौम्या विश्वनाथन हत्याकांड में दोषियों की सजा पर सुनवाई टली, क्या वजह, कब ऐलान?
Krishna Singhहेमलता कौशिश,नई दिल्लीSat, 25 Nov 2023 06:52 PM
ऐप पर पढ़ें

टीवी पत्रकार सौम्या रंगनाथन के हत्या के 15 साल पुराने मामले में साकेत अदालत ने सभी हत्या के आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। वहीं हत्या में मदद करने और चोरी की कार इस्तेमाल करने वाले आरोपी को तीन वर्ष की सजा सुनाई गई। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रवीन्द्र कुमार पांडेय की अदालत ने शनिवार को अपने फैसले सभी चार आरोपियों रवि कूपर, बलजीत मलिक, अमित शुक्ला और अजय कुमार को हत्या में संयुक्त रूप से शामिल होनेय पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 और 34 तथा मकोका की धाराओं के तहत आजीवन कारावास और 1.25 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। अजय सेठी को मकोका की धाराओं और चोरी की वैगनार कार इस्तेमाल करने और आरोपियों की मदद करने के तहत तीन वर्ष की सजा और 7.25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। 

अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि यह मामला दुर्लभ से दुर्लभतम मामले में नहीं शामिल है ऐसे में आरोपियों को मृत्युदंड की सजा दिए जाने की अपील खारिज की जाती है। आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। बता दें सौम्या विश्वनाथन की 30 सितंबर, 2008 को सुबह लगभग 3.30 बजे उनकी कार में काम से घर लौटते समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने दावा किया था कि उनकी हत्या के पीछे डकैती का मकसद था बाद में पुलिस ने पांच लोगों रवि कपूर, अमित शुक्ला, बलजीत मलिक, अजय कुमार और अजय सेठी को उ हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया।

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ सख्त महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) लगाया। आरोपियों के खिलाफ 24 मार्च 2009 में आरोप तय किए गए थे, 18 अक्तूबर 2023 को अदालत ने सभी को दोषी करार दिया था। मामले में बलजीत मलिक और अजय शुक्ला का पक्ष रखने वाले अधिवक्ता अमित कुमार ने बताया कि वह इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील करेंगे। 

अजय सेठी की सजा पूरी 
मामले में पांचवे आरोपी और घटना में चोरी की कार इस्तेमाल करने और आरोपियों की मदद करने के दोषी अजय सेठी को अदालत ने तीन वर्ष के साधारण कारावास की सजा सुनाई। लेकिन अजय सेठी अपनी सजा ट्रायल के दौरान ही पूरी कर चुका था। इसलिए उसे केवल जुर्माना भरना होगा इसके बाद उन्हे जेल से रिहा कर दिया जाएगा। अजय सेठी पर अदालत ने 7.25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। 
 

क्या है मामला?
ज्ञात रहे कि 30 सितंबर 2008 को उस वक्त गोली मारकर सौम्या की हत्या कर दी गई थी, जब वह कार्यालय से अपनी कार से घर लौट रही थी। इस मामले में दिल्ली के वसंत कुंज थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस मामले में पूछताछ के आधार पर रवि कपूर, अमित शुक्ला, बलजीत मलिक, अजय कुमार और अजय सेठी को सौम्या की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके साथ ही पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ सख्त ‘महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम’ (मकोका) भी लगाया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें