ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ रहे हालात, प्रधानमंत्री से पड़ोसी राज्यों की आपात बैठक बुलाने की अपील

दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ रहे हालात, प्रधानमंत्री से पड़ोसी राज्यों की आपात बैठक बुलाने की अपील

Delhi Pollution News: दिल्ली में प्रदूषण से हालात खराब होते जा रहे हैं। चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री ने प्रधानमंत्री मोदी से इस मसले को लेकर पड़ोसी राज्यों की आपात बैठक बुलाने की अपील की है।

दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़ रहे हालात, प्रधानमंत्री से पड़ोसी राज्यों की आपात बैठक बुलाने की अपील
Krishna Singhभाषा,नई दिल्लीSat, 04 Nov 2023 11:33 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में शनिवार को भी प्रदूषण गंभीर श्रेणी में बना हुआ है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi Air Pollution) में सबसे प्रदूषित क्षेत्र शादीपुर रहा, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 463 दर्ज किया गया। दूसरे नंबर पर आनंद विहार रहा, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 460 दर्ज किया गया। इस बीच चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (Chamber of Trade and Industry, CTI) ने शनिवार को PM मोदी से आग्रह किया कि वह दिल्ली में 'गंभीर' वायु प्रदूषण के मद्देनजर दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और यूपी सरकारों की आपात बैठक बुलाएं।

सीटीआई के चेयरपर्सन ब्रजेश गोयल ने कहा कि त्योहारी सत्र के बावजूद प्रदूषण के कारण कारोबार गिर रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि केंद्र सरकार से अनुरोध है कि वह सभी सरकारों के साथ मिलकर प्रदूषण के खिलाफ सख्त कदम उठाए। प्रदूषण केवल दिल्ली की समस्या नहीं है, यह एनसीआर के बाकी शहरों को भी प्रभावित करती है।

सीटीआई के चेयरपर्सन ब्रजेश गोयल ने कहा कि इस मुद्दे का समाधान अकेले दिल्ली सरकार के हाथ में नहीं है जब तक हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली और पंजाब की सरकारें मिलकर काम नहीं करेंगी, प्रदूषण की समस्या का समाधान नहीं हो सकता। उन्होंने सीटीआई ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इस मुद्दे पर एक आपात बैठक बुलाने की मांग की है, जिसमें दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्री और पर्यावरण मंत्री शामिल हों।

प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई में आरडब्ल्यूए भी आगे आए हैं। आरडब्ल्यूए कूड़ा जलाने पर रोक लगाने, परामर्श जारी करने तथा संकट के तरीकों से निपटने के लिए चर्चा जैसे उपाय कर रहे हैं। कई आरडब्ल्यूए के प्रतिनिधियों ने बताया कि हालांकि केवल सरकार अपने संसाधनों और विशेषज्ञता के साथ वायु प्रदूषण संकट से निपटने में सक्षम है, लेकिन हम हाउसिंग सोसाइटी और अपार्टमेंट में निवासियों की मदद करने के लिए अपना योगदान दे रहे हैं। मॉडल टाउन आरडब्ल्यूए के संजय गुप्ता ने कहा- हमने कूड़ा जलाने से रोकने के लिए एक नोटिस जारी किया है। हमने सुरक्षा गार्ड को भी आग नहीं जलाने का निर्देश दिया है।

कुछ आरडब्ल्यूए लोगों के साथ संवाद सत्र आयोजित कर रहे हैं, ताकि उन्हें विभिन्न उपायों के बारे में सलाह दी जा सके। उत्तरी दिल्ली में एक आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष अशोक भसीन ने कहा कि हम संवाद सत्र का आयोजन कर रहे हैं, जहां हम लोगों को जब तक जरूरी न हो, बाहर न जाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। हम अपने क्षेत्र में साफ-सफाई भी सुनिश्चित कर रहे हैं और जहां भी जरूरत हो, पानी के छिड़काव की व्यवस्था की है। दिल्ली और आसपास के इलाकों में हवा की गति में अपेक्षाकृत सुधार होने से शनिवार को प्रदूषण के स्तर में आंशिक गिरावट दर्ज की गई। 

हालांकि, डब्ल्यूएचओ द्वारा तय मानकों से अब भी पीएम2.5 का स्तर 80 गुना तक अधिक है। दिल्ली और आसपास के इलाकों में लगातार 5वें दिन जहरीली धुंध की मोटी परत छाई रही। चिकित्सकों ने इस स्थिति पर चिंता जताई है क्योंकि उनका मानना है कि इससे बच्चों और बुजुर्गों को सांस और आंख की समस्या हो सकती है। मध्य दिल्ली के करोल बाग में एक आरडब्ल्यूए की अध्यक्ष गीता ने कहा कि दिल्ली की हवा 'जहरीली' हो गई है और सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर रही है। दमा जैसी सांस संबंधी बीमारियों से पीड़ित लोग बुरी तरह प्रभावित हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें