ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRShraddha Murder Case : आफताब ने होटल के रजिस्टर में नहीं की थी एंट्री, साजिश के तहत मारने के मिल रहे सबूत

Shraddha Murder Case : आफताब ने होटल के रजिस्टर में नहीं की थी एंट्री, साजिश के तहत मारने के मिल रहे सबूत

जांच में पता चला है कि तोष गांव में आफताब और श्रद्धा दोनों के अकाउंट से ऑनलाइन भुगतान किए गए थे। तोष गांव से लेकर कसौल तक करीब 15 होटल कर्मियों के एंट्री रजिस्टर की जांच की जा रही है।

Shraddha Murder Case : आफताब ने होटल के रजिस्टर में नहीं की थी एंट्री, साजिश के तहत मारने के मिल रहे सबूत
Praveen Sharmaनई दिल्ली | हिन्दुस्तानSun, 27 Nov 2022 05:43 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

श्रद्धा हत्याकांड में आरोपी आफताब ने हिमाचल के तोष गांव के होटल में ठहरने के दौरान रजिस्टर में एंट्री नहीं की थी। तोष गांव में स्थित इस छोटे से होटल में ठहरने के दौरान उसने होटल कर्मी से खुद को किसी लोकल शख्स का जानकार बताया था।

आरोपी ने बस एक आधार कार्ड होटल कर्मी को दिया था, उसकी भी जांच की जा रही है कि वह असली है या नहीं। इस बात का खुलासा होने के बाद यह शक अब पूरी तरह गहरा गया है कि उसका इरादा हिमाचल में ही श्रद्धा को मारने का था, लेकिन वहां उसे मौका नहीं मिल सका।

कसोल से 30 किलोमीटर आगे गांव में गए थे : पुलिस को जब पता चला कि आफताब कसोल से करीब 30 किलोमीटर आगे तोष गांव में श्रद्धा के साथ ठहरा था तो पुलिस की एक टीम वहां रवाना हुई। कसौल से आगे बढ़ने के दौरान यह पता चला कि तोष पहुंचने में कितनी दिक्कतें होती हैं, रास्ते खराब हैं और गांव में ठीक होटल भी नहीं हैं।

ऐसे में वहां जाने का मकसद घूमना भी शक के दायरे में आता है। ऐसे में दिल्ली पुलिस को शक है कि हत्या की साजिश के तार कसोल से जुड़े हो सकते हैं। पुलिस यह जानना चाहती है कि कहीं कसोल में रुककर आफताब ने श्रद्धा की हत्या करने की साजिश तो नहीं रची थी।

गेस्ट की लिस्ट खंगाल रही पुलिस

दिल्ली पुलिस हिमाचल पुलिस के साथ मिलकर सभी होटल के अप्रैल महीने के रजिस्टर खंगाल रही है। पुलिस ने सभी होटल को नोटिस देकर अप्रैल के महीने में ठहरने वाले गेस्ट की लिस्ट मांगी है। दरअसल, तोष पहुंचने के लिए बेहद खराब रास्तों से होकर गुजरना पड़ता है। कई जगह लैंड स्लाइडिंग भी होती है। गाड़ी नहीं पहुंच पाती। बावजूद इसके आफताब ने कसोल से भी 30 किलोमीटर दूर तोष गांव में ठहरने का स्थान चुना। उसके इस फैसले को लेकर पुलिस को शक है कि कहीं इन्हीं खाइयों में तो श्रद्धा को मारने का प्लान नहीं था। बता दें कि दिल्ली पुलिस की कई टीमें अलग-अलग राज्यों और जिलों में हत्याकांड के सबूत तलाशने में जुटी हुई हें। इसी के मद्दे्नजर महरौली पुलिस की एक टीम हिमाचल प्रदेश गई हुई है।

दोनों के अकाउंट से किए गए थे भुगतान

जांच में पता चला है कि तोष गांव में आफताब और श्रद्धा दोनों के अकाउंट से ऑनलाइन भुगतान किए गए थे। तोष गांव से लेकर कसौल तक करीब 15 होटल कर्मियों के एंट्री रजिस्टर की जांच की जा रही है। लोगों को श्रद्धा-आफताब के फोटो दिखाकर पूछताछ भी की जा रही है।

साजिश के तहत मारने के मिल रहे सबूत

श्रद्धा हत्याकांड मामले के आरोपी आफताब पूनावाला के खिलाफ 120 बी यानी साजिश के तहत हत्या करने की धारा भी जोड़ी जा सकती है। दरअसल, आफताब अमीन पूनावाला ने श्रद्धा का कत्ल गुस्से में अचानक नहीं किया था। बल्कि ये कत्ल उसने पूरी प्लानिंग के साथ किया था। अब तक की तफ्तीश इस तरफ ही इशारा कर रही है। उसने कत्ल की प्लानिंग पहले ही कर ली थी और प्लान के तहत ही मुंबई छोड़ना था। इसलिए वह हिमाचल गया था। इसके बाद वह दिल्ली आया। इसके मद्देनजर पुलिस अपनी तफ्तीश आगे बढ़ा रही है।