ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRकंबल में लपेट मासूमों को दूसरी मंजिल से फेंका, बुजुर्ग ने लगाई छलांग; इमारत में आग के बाद दिखा भयानक मंजर

कंबल में लपेट मासूमों को दूसरी मंजिल से फेंका, बुजुर्ग ने लगाई छलांग; इमारत में आग के बाद दिखा भयानक मंजर

शकरपुर के गणेश नगर में पांच मंजिला इमारत मंें सोमवार देर रात आग लग गई। जिसमें 32 लोग फंस गए। जान बचाने को किसी ने छलांग लगा दी तो किसी ने बच्चों को कंबल में लपेटकर नीचे फेंक दिया।

कंबल में लपेट मासूमों को दूसरी मंजिल से फेंका, बुजुर्ग ने लगाई छलांग; इमारत में आग के बाद दिखा भयानक मंजर
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 15 Nov 2023 06:15 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में शकरपुर स्थित गणेश नगर की पांच मंजिला इमारत में सोमवार देर रात आग लग गई, जिसमें इमारत में रहने वाले 32 लोग फंस गए। हादसे में महिला की मौत हो गई। दमकल की 17 गाड़ियां करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा सकीं। बचाव टीम ने इमारत में फंसे 26 लोगों को सुरक्षित निकाला, जबकि छह लोग पहले ही घबराहट में इमारत से नीचे कूद गए। पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया। उपचार के दौरान एक महिला की मौत हो गई। चार घायलों की हालत गंभीर है। शॉर्ट सर्किट को आग की वजह माना जा रहा है।

कंबल में लपेटकर मासूमों को दूसरी मंजिल से फेंका

इमारत की दूसरी मंजिल पर रहने वाली शिक्षिका प्रियंका का परिवार भी फंस गया था। 36 वर्षीय प्रियंका के परिवार में 40 वर्षीय पति कमल तिवारी और बच्चे तीन वर्षीय शिवास एवं 12 वर्षीय शौर्य हैं। कमल और प्रियंका कोचिंग संस्थान में पढ़ाते हैं। सोमवार रात कमल का परिवार सो रहा था, तभी शोर सुनकर उनकी नींद खुली। कमल ने घर का गेट खोलकर बाहर जाना चाहा, लेकिन तब तक आग फैल चुकी थी। ऐसे में परिवार ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया। परिवार बेड पर बैठकर मौत का इंतजार कर रहा था।

प्रियंका और शौर्य ने कमल से मौत से लड़ने को कहा। इसके बाद प्रियंका व कमल ने बच्चों को कंबल में लपेटकर नीचे फेंक दिया व खुद भी छलांग लगा दी। प्रियंका को आरएमएल के आईसीयू और बाकी तीनों को कैलाश अस्पताल, कड़कड़डूमा में भर्ती कराया गया है। प्रियंका 45 से ज्यादा झुलस गई हैं। कमल ने धनतेरस पर नई कार खरीदी थी। सोमवार देर  रात आग में कमल की कार भी जल गई।

धुएं से दम घुटने लगा

पहली मंजिल पर रहने वाले 62 वर्षीय नरेश नागर ने जान बचाने को नीचे छलांग लगा दी। नरेश दमे के मरीज हैं और धुएं दम घुटने पर दमकलकर्मियों के पहुंचने से पहले ही उन्होंने छलांग लगा दी। हादसे में उनकी कूल्हे की हड्डी टूट गई। उनकी पत्नी मधुबाला भी झुलस गई। दोनों का उपचार चल रहा है। इसी इमारत में पहली मंजिल के दूसरे फ्लैट में 55 वर्षीय सुप्रभा देवी अपने परिवार के साथ किराये पर रहती हैं। उनके परिवार में पति प्रकाश कुमार, 26 वर्षीय बेटी शिवानी और बेटा हर्षवर्धन है। 

हादसे के समय उनकी बेटी नाइट शिफ्ट में वर्कफ्रॉम होम कर रही थी। इस वजह से उसे समय रहते इमारत में आग लगने का पता चल गया। हालांकि, शिवानी ने अपनी जान बचाने के लिए पहली मंजिल से नीचे छलांग लगा दी। हादसे में उसका हाथ टूट गया। बताया गया कि कुछ समय पूर्व ही शिवानी की सगाई हुई थी। उसकी जल्द ही शादी होने वाली है। परिवार के बाकी लोगों को पड़ोसियों ने सीढ़ी लगाकर समय रहते सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

दमकलकर्मियों ने बचाई कई लोगों की जान

दमकलकर्मी मौके पर पहुंचने के बाद दो टीमों में बंट गए। एक टीम ने आग पर काबू पाने का काम किया, जबकि दूसरी टीम ने बालकनी में फंसे लोगों को बचाना शुरू कर दिया। बचाए गए लोगों में शामिल बीएसएफ के पूर्व हवलदार देव सिंह अधिकारी ने बताया कि वह चौथी मंजिल पर रहते हैं। उनके परिवार में पत्नी नीमा, बेटी भावना, बेटा आशीष हैं। परिवार को सुबह 5 बजे बालकनी के रास्ते दमकल कर्मियों ने निकाला।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें