ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRएलजी से मांग ली माफी, दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष से भी मिलेंगे; BJP के 7 सस्पेंड विधायकों ने कोर्ट से क्या कहा

एलजी से मांग ली माफी, दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष से भी मिलेंगे; BJP के 7 सस्पेंड विधायकों ने कोर्ट से क्या कहा

यहां विधायकों की तरफ से वरिष्ठ वकील ने कोर्ट को बताया उन्होंने उप राज्यपाल वी के सक्सेना को खत लिखा था और उन्होंने उन्हें क्षमा कर दिया। इसके अलावा सातों भाजपा विधायक स्पीकर से भी मिलेंगे। 

एलजी से मांग ली माफी, दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष से भी मिलेंगे; BJP के 7 सस्पेंड विधायकों ने कोर्ट से क्या कहा
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 21 Feb 2024 04:21 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली विधानसभा में सस्पेंड किए गए बीजेपी के सात विधायकों ने हाई कोर्ट को बताया है कि वो जल्द ही विधानसभा स्पीकर से मुलाकात करेंगे। सातों निलंबित भाजपा विधायकों के मामलें में आज अदालत में सुनवाई हुई। यहां विधायकों की तरफ से वरिष्ठ वकील ने कोर्ट को बताया उन्होंने उप राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना को खत लिखा था और उन्होंने उन्हें क्षमा कर दिया। इसके अलावा सातों भाजपा विधायक स्पीकर से भी मिलेंगे। 

विधानसभा से सस्पेंड किए गए सात विधायकों ने अदालत को बताया है कि एलजी को लिखे माफीनामे की कॉपी उन्होंने विधानसभा स्पीकर को भी ईमेल के जरिए भेजी है। इसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने सभी निलंबित विधायकों को स्पीकर से मिलने के लिए भी कहा। 

जिन भाजपा विधायकों को सस्पेंड किया गया है उनमें - मोहन सिंह बिष्ट, अजय महावर, ओपी शर्मा, अभय वर्मा, अनिल वाजपेई, जीतेंद्र महाजन औऱ विजेंद्र गुप्ता शामिल हैं। दरअसल दिल्ली विधानसभा में सत्र के दौरान जब उप राज्यपाल ने अपना अभिभाषण पढ़ना शुरू किया था तब सदन में विपक्षी दल के नेताओं ने जमकर हंगामा किया था। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने कई बार हंगामा कर रहे भाजपा विधायकों को शांत रहने के लिए कहा था। लेकिन विधायकों के शांत नहीं होने पर कुछ विधायकों को मार्शलों के जरिए विधानसभा के बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। बाद में सात विधायकों को अध्यक्ष ने निलंबित कर दिया था। 

इन सभी विधायकों को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित कर दिया गया था। जिसके बाद इन विधायकों ने अपने निलंबन को अदालत में चुनौती दी थी। विधायकों ने अदालत से कहा था कि विशेषाधिकार समिति के अध्यक्ष कार्यवाही समाप्त होने तक अनिश्चितकालीन निलंबन नियमों का उल्लंघन है। विधायकों ने अदालत से गुहार लगाई थी कि उन्हें विधानसभा सत्र में शामिल होने की अनुमति दी जाए। निलंबित होने की वजह से वो सत्र में हिस्सा लेने में असमर्थ हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें