ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRजेवर एयरपोर्ट और एयर कार्गो के लिए रेलवे वाला प्लान, 58 गांवों से गुजरेगा ट्रैक

जेवर एयरपोर्ट और एयर कार्गो के लिए रेलवे वाला प्लान, 58 गांवों से गुजरेगा ट्रैक

जेवर एयरपोर्ट को देशभर के अन्य हिस्सों से जोड़ने के लिए तैयार हो रही मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी में एक और नई कड़ी जुड़ेगी। जेवर खादर और चांदहट के बीच रेलमार्ग पर एयर कार्गो के लिए अलग टर्मिनल बनेगा।

जेवर एयरपोर्ट और एयर कार्गो के लिए रेलवे वाला प्लान, 58 गांवों से गुजरेगा ट्रैक
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा। आशीष धामाFri, 07 Jun 2024 07:10 AM
ऐप पर पढ़ें

जेवर में बन रहे नोएडा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को देशभर के अन्य हिस्सों से जोड़ने के लिए तैयार हो रही मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी में एक और नई कड़ी जुड़ेगी। जेवर खादर और चांदहट के बीच रेलमार्ग पर एयर कार्गो के लिए अलग टर्मिनल बनेगा। इसके बनने से एयर कार्गो को देशभर में आसानी से भेजा जा सकेगा।

यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के अधिकारी ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर लॉजिस्टिक और एविएशन हब बनेगा। यहां विमानों से जुड़े तमाम पार्ट्स बनाए जाएंगे। सितंबर अंत तक एयरपोर्ट से विमानों की उड़ान प्रस्तावित है। ऐसे में यात्रियों के साथ ही माल की आवाजाही के लिए सुगम यातायात की व्यवस्था की जा रही है। एयरपोर्ट के कार्गो टर्मिनल को सड़क के जरिये यमुना और दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जोड़ने का काम चल रहा है।

अब इसे दिल्ली-हावड़ा और दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग से भी जोड़ा जाएगा, ताकि एयरपोर्ट से सामान को देशभर के अलग-अलग राज्यों और शहरों में भेजा जा सके। इस परियोजना की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) में जेवर खादर और चांदहट के बीच अलग टर्मिनल बनाने का प्रस्ताव रखा गया है।

ट्रांसपोर्ट हब से भी रेलवे लाइन जोड़ी जाएगी

दादरी के बोड़ाकी में मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट हब प्रस्तावित है। यहां ट्रेन, मेट्रो, अंतरराज्यीय बस अड्डा की सुविधाएं विकसित होनी हैं। बोड़ाकी के पास रेलवे टर्मिनल बनेगा। इसके बनने के बाद पूर्व की ओर जाने वाली अधिकतर ट्रेनें यहीं से चलेंगी। ग्रेटर नोएडा और उसके आसपास रहने वालों को पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल के लिए ट्रेनें यहीं से मिल जाएंगी। उन्हें दिल्ली, नई दिल्ली और आनंद विहार रेलवे स्टेशन जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दिल्ली-हावड़ा और दिल्ली-मुंबई रेलवे लाइन जुड़ने से एयरपोर्ट आना भी आसान हो जाएगा।

58 गांवों से होकर गुजरेगा रेलवे ट्रैक

यह रेलवे ट्रैक एनसीआर के 58 गांवों से गुजरेगा। परियोजना को धरातल पर उतारने के लिए 45 जगहों पर रेल लाइन को सड़क के ऊपर से निकाला जाएगा। 61 किमी रेल लाइन को यमुना एक्सप्रेसले सहित अहम सड़कों से क्रॉस किया जाएगा, लेकिन ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे इस ट्रैक को दूर हो रखा जाएगा।

यमुना एक्सप्रेसवे के ऊपर से ट्रेन गुजरेगी

हरियाणा के रुंधी से चांदहट के बाद रेलमार्ग को नोएडा एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए यमुना पर 350 करोड़ रुपये की लागत से ब्रिज बनेगा। वहीं, यमुना एक्सप्रेसवे के ऊपर से ट्रेन गुजारने के लिए फ्लाइओवर बनाया जाएगा, जिस पर करीब 15 करोड़ खर्च किए जाएंगे। इस पूरी परियोजना पर कुल 2400 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

किस गांव से कितनी दूरी पर बनेंगे स्टेशन

गांव                      दूरी

चांदहट              600 मीटर

जेवर खादर         900 मीटर

जेवर एयरपोर्ट     500 मीटर

जहांगीरपुर         900 मीटर

बीघेपुर              300 मीटर

(जेवर क्षेत्र में रेल मार्ग शुरू होने से लोगों को काफी राहत मिलेगी)

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा कि एयरपोर्ट से कार्गो के लिए टर्मिनल बनाने का प्रस्ताव डीपीआर में रखा गया है। इसके बनने के बाद एयर कार्गो का सामान आसानी से अन्य राज्यों में भेजा हो सकेगा। इसके लिए जेवर खादर और चांदहट के बीच संभावना तलाशने का काम शुरू किया गया है। 

Advertisement