ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRकहीं पिछले साल वाला न हो जाए हाल, दिल्ली सरकार ने इस बार पहले ही शुरू किया यह काम

कहीं पिछले साल वाला न हो जाए हाल, दिल्ली सरकार ने इस बार पहले ही शुरू किया यह काम

दिल्ली में पिछले साल आई बाढ़ से सबक लेते हुए आप सरकार ने इस साल पहले ही तैयारियां शुरू कर दी है। सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग बड़ी-बड़ी मशीनों से पिछले करीब तीन महीने से सिल्ट में चैनल बना रहा है।

कहीं पिछले साल वाला न हो जाए हाल, दिल्ली सरकार ने इस बार पहले ही शुरू किया यह काम
Sneha Baluniएएनआई,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 10:52 AM
ऐप पर पढ़ें

पिछले साल दिल्ली में आई बाढ़ से सबक लेते हुए आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने इस साल मॉनसून आने से पहले ही तैयारियां शुरू कर दी है। जिससे यमुना का पानी सड़क पर ना आए। इसे लेकर दिल्ली के शहरी विकास विभाग और सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण मंत्री सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली सचिवालय में सोमवार को दिल्ली नगर निगम, सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग, डीडीए, छावनी बोर्ड, एनडीएमसी और पीडब्ल्यूडी के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक की। जिसमें लोक निर्माण मंत्री आतिशी भी मौजूद रहीं।

सरकार की तैयारियों को लेकर सौरभ भारद्वाज ने कहा, 'पिछले साल जो बारिश आई और जो पीछे से पानी छोड़ा गया। इतना पानी कई दशकों में दिल्ली में नहीं आया। मगर इस बार सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग ने इसकी सारी तैयारियां की हैं। इस बार पिछली बार के जितना पानी भी आ जाएगा तो कम से कम यमुना में बाढ़ नहीं आएगी। यमुना का पानी सड़कों पर नहीं आएगा। बड़ी-बड़ी मशीनों से पिछले करीब तीन महीने से काम चल रहा है। जो भी बीच में टापू बन गए हैं, सिल्ट आ गई है, सालों से जमा हुई सिल्ट के बीच में चैनल्स बनाए गए हैं जैसे ही पीछे हरियाणा से पानी आएगा, सारी सिल्ट बह जाएगी। ये टापू पानी के साथ बह जाएगा।'

आप मंत्री ने आगे कहा, 'यमुना के लिए पूरी जगह है। हमने पहले ही हरियाणा के आईटीओ बराज, जिसके गेट पिछली बार जाम थे, इस बार उनके साथ मिलकर इन दरवाजों को खुलवा दिया है। कुछ दरवाजे जो नहीं खुले, उन्हें काटकर अलग करदिया है। ताकि इस बार कोई भी ऑब्सट्रक्शन यमुना में न रहे। इस बार दिल्ली में बाढ़ नहीं आएगी। इस बार सारे रेगुलेटर की मरम्मत की गई है। पिछली बार जो रेगुलेटर टूटा था उसे नया बनाया गया है। सबको टेस्ट कर चुके हैं। यमुना के अंदर बाड़ नहीं आएगी। दिल्ली के अंदर जलभराव का काम अलग-अलग विभागों के पास है।'