DA Image
23 अप्रैल, 2021|7:11|IST

अगली स्टोरी

वैक्सीनेशन में दिल्ली के पिछड़ने के आरोप पर सत्येंद्र जैन ने दिया केंद्र सरकार को जवाब

satyendra jain

देशभर में कोरोना के मामलों में रिकॉर्ड तोड़ बढ़ोतरी जारी है। वहीं, दूसरे तरफ राज्यों और केंद्र सरकार के बीच कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जंग तेज हो गई है। कुछ राज्यों ने वैक्सीन की कमी की बात कही, तो केंद्र सरकार की ओर से राज्यों को वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार को लेकर चिट्ठी लिख दी गई है। केंद्र ने पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र को चिट्ठी लिख राष्ट्रीय औसत से भी पीछे चलने की बात कही है। इसपर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने केंद्र सरकार के अस्पतालों को जिम्मेदार ठहराया है।

सत्येंद्र जैन गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में वैक्सीनेशन कम हो रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में वैक्सीन का अभी 4-5 दिन का स्टॉक है. इन चीजों में हमें मिलकर लड़ना चाहिए। केंद्र सरकार आरोप लगा रही है कि दिल्ली में वैक्सीनेशन कम हो रहा है। ऐसे तो हम भी कह सकते हैं कि केंद्र सरकार के जो अस्पताल हैं उसकी वजह से वैक्सीनेशन कम हुआ है। वहां तो 30-40 फीसदी वैक्सीनेशन हुआ है उसकी वजह से सारा प्रतिशत कम है।

सत्येंद्र जैन ने कहा कि ऐसा इस बात को नहीं छोड़ देना चाहिए। जितने लोगों ने भी कराया है हमने किसी को मना नहीं किया। दिल्ली में अगर 75 फीसद भी हुआ है और केंद्र के अस्पतालों में 30 फीसद हुआ है तो ये मुद्दा नहीं है। मुद्दा ये है कि जल्द से जल्द हमें लोगों को वैक्सीनेट करना है। हमें इस झगड़े में पड़ने की जरूरत नहीं है।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश समेत अन्य कुछ राज्यों ने वैक्सीन की कमी की बात कही, तो उस पर केंद्र सरकार की ओर से कुछ राज्यों को वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार को लेकर चिट्ठी लिख दी गई है। केंद्र ने पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र को चिट्ठी लिख राष्ट्रीय औसत से भी पीछे चलने की बात कही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मनोहर अगनानी ने पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र के प्रिंसिपल सेक्रेटरी को चिट्ठी लिखी है, जिसमें वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार पर सवाल उठाए हैं। दिल्ली को लेकर कहा गया है कि अभी तक 23,70,710 डोज दी गई हैं, जिनमें से 18,70,662 का इस्तेमाल हुआ है और इनमें वेस्टेज भी शामिल है।

दिल्ली हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली और दूसरी डोज देने के मामले में राष्ट्रीय औसत से काफी पीछे है। अगर पंजाब की बात करें तो यहां अभी तक 22,36,770 भेजी गई हैं, जबकि सिर्फ 14,94,663 का इस्तेमाल हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि राज्यों को अपने यहां वैक्सीनेशन की रफ्तार को बढ़ाना होगा, हेल्थवर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर को वैक्सीन देने की सख्त जरूरत है क्योंकि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच ये लड़ाई में सबसे आगे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Satyendra Jain replied to central government on allegations of Delhi lagging behind in vaccination